Please click on square box [ ] at right top corner for Full Screen




0%
1

All The Best

All The Best


Created on By aajkatopper

Physics

PHOTO ELECTRIC EFFECT TEST - 5

1 / 20

A proton moves on a circular path of radius 6.6 × 10—3 m in a perpendicular magnetic field of 0.625 tesla. The De broglie wavelength associated with the proton will be :
एक प्रोटोन 0.625 टेसला के लम्बवत चुम्बकीय क्षेत्र में 6.6x10—3 मीटर त्रिज्या के वृत्ताकार पथ पर गति करता है। प्रोटोन से सम्बन्धित डी ब्रोग्ली तरंगदैर्ध्य होगी :

2 / 20

The de-Broglie wavelength of a neutron in thermal equilibrium with heavy water at a temperature T (Kelvin) and mass m, is :-
एक न्यूट्रॉन का द्रव्यमान m है तथा यह T (कैल्विन) ताप पर गुरु जल के साथ ऊष्मीय संतुलन में है। इसकी दे-ब्रोग्ली तरंगदैर्ध्य होगी

3 / 20

A photoelectric surface is illuminated successively by monochromatic light of wavelength l and λ/2. If the maximum kinetic energy of the emitted photoelectrons in the second case is 3 times that in the first case, the work function of the surface of the material is : (h = Plank's constant, c = speed of light)
किसी प्रकाश वैद्युत पृष्ठ को, क्रमशः 2 तथा λ/2 तरंगदैर्घ्य एकवर्णी प्रकाश से प्रदीप्त किया जाता है। यदि उत्सर्जित प्रकाश विद्युत इलेक्ट्रॉनों की अधिकतम गतिज ऊर्जा का मान दूसरी दशा में, पहली दशा से 3 गुना है तो, इस पृष्ठ के पदार्थ का कार्य फलन है: (h = प्लांक स्थिरांक, c= प्रकाश का वेग)

4 / 20

The threshold frequency for a certain photosensitive metal is υ0. When it is illuminated by light of frequency υ = 2υ0, the maximum velocity of photoelectrons is v0. What will be the maximum velocity of the photoelectrons when the same metal is illuminated by light of frequency υ = 5υ0?
किसी प्रकाश संवेदी धातु के लिये देहली आवृत्ति υ0 है। जब यह υ = 2υ0 के प्रकाश द्वारा प्रकाशित होता है तो प्रकाश इलेक्ट्रॉनों का अधिकतम वेग vo है। जब यह समान धातु की सतह पर आवृत्ति υ = 5υ0 के प्रकाश द्वारा प्रकाशित होता है तो प्रकाश इलेक्ट्रॉनों का अधिकतम वेग होगा?

5 / 20

In a photoelectric experiment the graph of frequency u of incident light (in Hz) and stopping potential V (in volts) is shown below. From figure the value of the Planck's constant is (e is the elementary charge)
प्रकाश विद्युत प्रभाव प्रयोग में आपतित प्रकाश की आवृत्ति u (हर्टज में) तथा निरोधी विभव (V) (वोल्टता में) का ग्राफ नीचे प्रदर्शित है। चित्र में प्लाँक नियतांक का मान होगा (e मूल आवेश है। )

6 / 20

The frequency of the incident light falling on a photosensitive metal plate is doubled, the kinetic energy of the emitted photoelectrons is
प्रकाश सुग्राही धातु की प्लेट पर आपतित प्रकाश की आवृत्ति को दुगुनी कर दी जाये, तो उत्सर्जित प्रकाश इलेक्ट्रॉन की गतिज ऊर्जा हो जायेगी :

7 / 20

The velocity at which the mass of a particle becomes twice of its rest mass, will be -
वह वेग जिस पर किसी कण का द्रव्यमान अपने विराम द्रव्यमान का दुगुना हो जाए, होगा :

8 / 20

Work function of potassium metal is 2.30 eV. When light of frequency 8 × 1014 Hz is incident on the metal surface, photoemission of electrons occurs. The stopping potential of the electrons will be equal to
पौटेशियम धातु का कार्यफलन 2.30 eV है। जब 8 x 1014 Hz आवृत्ति का प्राश धातु का सतह पर आपतित होता है तो इलेक्ट्रॉनों को प्रकाश उत्सर्जन होता है। इलेक्ट्रॉनों का निरोधी विभव होगा ?

9 / 20

The kinetic energy of most energetic electrons emitted from a metallic surface is doubled when the wavelength of the incident radiation is changed from 400 nm to 310 nm the work-function of the metal is :
धातु की सतह से उत्सर्जित होने वाले सबसे अधिक उर्जित प्रकाश इलेक्ट्रॉन की गतिज ऊर्जा दुगुनी होती है जब आपतित प्रकाश की तरंग लम्बाई में परिवर्तन 400nm से 310nm कर दिया जाता है तो धातु का कार्यफलन है

10 / 20

The photoelectric threshold wavelength of silver is 3250 × 10–10m. The velocity of the electron ejected from a silver surface by ultraviolet light of wavelength 2536 × 10–10 m is :- (Given h = 4.14 × 10–15 eVs and c = 3 × 108 ms–1)
चाँदी के लिये प्रकाश विद्युत देली तरंगदै र्ध्य 3250 x 10–10m है। तो, 2536x10–10m तरंगदैर्ध्य के पराबैंगनी प्रकाश द्वारा चाँदी के पृष्ठ से निष्काषित इलेक्ट्रॉनों का वेग होग 🙁 h = 4.14 × 10–15 eVs and c = 3 × 108 ms–1)

11 / 20

Electromagnetic wave of intensity 1400 W/m2 falls on metal surface on area 1.5 m2 is completely absorbed by it. Find out force exerted by beam.
1400 W/m2 तीव्रता की विद्युत चुम्बकीय तरंगे 1.5m 2 क्षेत्रफल वाली चालक सतह पर गिरकर पूर्णतया: अवशोषित हो जाती है, तो इन तरंगो द्वारा सतह पर आरोपित बल का मान होगा :

12 / 20

A photosensitive metallic surface has work function, hν0. If photons of energy 2hν0 fall on this surface, the electrons come out with a maximum velocity of 4 × 106 m/s. When the photon energy is increased to 5hν0, then maximum velocity of photo electrons will be :-
एक प्रक सुग्राही धात्वी तल का कार्यफलन hν0 है। इस तल पर 2hν0 ऊर्जा के फोटोन आपतित हो तो उत्सर्जित इलेक्ट्रॉनों का अधिकतम वेग 4x106 m/s होता है। जब फोटोन ऊर्जा बढ़कर 5hν0 होगी तो प्रकाशीय इलेक्ट्रॉनों का अधिकतम वेग होगा :

13 / 20

Light of frequency 1015 Hz falls on a metal surface of work function 2.5 eV. The stopping potential of photoelectrons in volts is :-
2.5eV कार्यफलन की धात्विक सतह पर 1015 Hz आवृत्ति का प्रकाश गिरता है। प्रकाश इलेक्ट्रॉनों का निरोधी विभव (वोल्ट में) होगा।

14 / 20

The threshold wavelength of tungsten is 2300 Å. If ultra violet light of wavelength 1800 Å is incident on it, then the maximum kinetic energy of photoelectrons would be.
टंगस्टन के लिये देहली तरंग दैर्ध्य का मान 2300Å है। यदि 1800 Å का पराबैंगनी प्रकाश इस पर आपतित हो तो उत्सर्जित इलेक्ट्रॉन की अधिकतम गतिज ऊर्जा क्या होगी?

15 / 20

A 500 watt bulb is placed at the centre of a perfectly black sphere of radius R = 1 metre. The approximate pressure experienced by the walls of the sphere as it absorbs all the photon emited by the bulb is (take 4π = 12.6)
R = 1m त्रिज्या का एक पूर्णत: काला गोले के केन्द्र पर 500 वाट का बल्ब रखा है। गोले की दीवारों द्वारा अनुभव किया गया दाब लगभग होगा। जब यह बल्ब द्वारा उत्सर्जित सभी फोटोनों को अवशोषित कर ले।(take 4π = 12.6)

16 / 20

When the light of frequency 2ν0 (where ν0 is threshold frequency), is incident on a metal plate, the maximum velocity of electrons emitted is v1.When the frequency of the incident radiation is increased to 5ν0, the maximum velocity of electrons emitted from the same plate is v2. The ratio of v1 to v2 is :-
जब किसी धातु के पृष्ठ पर आवृत्ति 2ν0 (यहाँ ν0देहली आवृत्ति है) का प्रकाश आपतन करता है, तो उत्सर्जित इलेक्ट्रॉनों का अधिकतम वेग v1 है। जब आपतित विकिरणों की आवृत्ति बढ़ाकर 5ν0 कर दी जाती है, तो उसी पृष्ठ से उत्सर्जित इलेक्ट्रॉनों का अधिकतम वेग v2 होता है। v1 और v2 का अनुपात है

17 / 20

An electron of mass m and a photon have same energy E. The ratio of de-Broglie wavelengths associated with them is :
द्रव्यमान m के इलेक्ट्रॉन तथा किसी फोटॉन की ऊर्जाएं E एक समान है । इनमें संबद्ध दे-ब्राग्ली तरंगदैर्ध्य का अनुपात है :

18 / 20

Photons with energy 5 eV are incident on a cathode C in a photoelectric cell. The maximum energy of emitted photoelectrons is 2 eV. When photons of energy 6 eV are incident on C, no photoelectrons will reach the anode A, if the stopping potential of A relative to C is :-
किसी प्रकाशविद्युत् सेल के कैथोड (ऋणाग्र) C पर 5 eV ऊर्जा के फोटॉन आपतित होते हैं। उत्सर्जित प्रकाशिक इलेक्ट्रॉनों की अधिकतम ऊर्जा 2 eV है। 6eV ऊर्जा के फोटॉनों के C पर आपतित होने पर कोई भी प्रकाशिक इलेक्ट्रॉन ऐनोड (धनाग्र) A तक नहीं पहुँचेगा, यदि C के सापेक्ष A का निरोधी विभव हो :

19 / 20

The threshold frequency for a photosenstive metal is 7 × 1013 Hz. If light of frequency 1014 Hz is incident on this metal, then maximum kinetic energy of emitted electron is?
एक प्रकाशसंवेदी धातु की देहली आवृत्ति 7 × 1013 Hz है यदि 1014 Hz आवृत्ति का प्रकाश धातु पर आपतित हो तो उत्सर्जित इलेक्ट्रान की अधिकतम गतिज ऊर्जा होगी

20 / 20

A laser beam ( λ= 633 nm) has an power of 3 mW. What will be the pressure exerted on a surface by this beam if the cross sectional area is 3 mm2. (Assume perfect reflection and normal incidence)
लेजर किरणों (λ= 633nm) की शक्ति 3 mW है द्वारा 3mm2 अनुप्रस्थ काट के पृष्ठ पर लगाया गया दाब होगा (सतह पूर्ण परावर्तक है व किरणें सतह पर लम्बवत् आपतित होती है।)

Your score is

The average score is 0%

0%




Welcome to the online physics test series for the NEET & JEE entrance exam. On this page you can find chapter wise physics mock tests for the NEET & JEE  exam. Practicing physics questions is very important as it helps in clear the concepts over a period of time. With these NEET & JEE physics questions, you can get a boost in your confidence when it comes to problem-solving in physics.

  • The test is of 20-minutes duration and it contains 20 Questions.
  • Practicing such tests would give you added confidence while attempting your exam.
  • Why wait to take the test and get an instant evaluation.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You cannot copy content