Please click on square box [ ] at right top corner for Full Screen




0%
1

All The Best

All The Best


Created on By aajkatopper

Physics

RAY OPTICS AND OPTICAL INSTRUMENTS TEST - 5

1 / 20

A astronomical telescope has objective and eyepiece of focal lengths 40 cm and 4 cm respectively. To view an object 200 cm away from the objective, the lenses must be separated by a distance :-
किसी खगोलीय दूरबीन के अभिदृश्यक और नेत्रिका की फोकस दूरियां क्रमश: 40 से.मी. और 4 से.मी. हैं। अभिदृश्यक से 200 से.मी. दूर स्थित किसी बिम्ब को देखने के लिए, दोनों लेंसों के बीच की दूरी होनी चाहिए :

2 / 20

A person can see clearly objects only when they lie between 50 cm and 400 cm from his eyes. In order to increase the maximum distance of distinct vision to infinity, the type and power of the correcting lens, the person has to use, will be :-
एक व्यक्ति अपनी आँख से केवल 50cm तथा 400cm दूरी के बीच स्थित वस्तुओं को सुस्पष्ट देख सकता है। सुस्पष्ट दर्शन की अधिकतम दूरी को अनन्त तक करने के लिए उस व्यक्ति को किस प्रकार के और कितनी शक्ति के संशोधक लेंस की आवश्यकता होगी ?

3 / 20

In a convex lens of focal length F, the minimum distance between an object and its real image must be :-
F फोकस दूरी के एक उत्तल लेन्स में, किसी बिम्ब और उसके वास्तविक प्रतिबिम्ब के मध्य न्यूनतम दूरी होगी :

4 / 20

Which of the following is not due to total internal reflection ?
निम्नलिखित में किस का कारण पूर्ण आन्तरिक परावर्तन नहीं है ?

5 / 20

The power of spectacles lens required for a person is -5 dioptre when separation between spectacles and eye is 2 cm. What will be the power of contact lens required by him?
जब चश्में को आँख से 2 cm की दूरी पर रखा जाता है तब आदमी को -5D शक्ति वाले चश्मे की जरूरत पड़ती है। तब उसके द्वारा संपर्क लेंस की किस शक्ति की जरूरत होगी।

6 / 20

Find the position of final image from 'O' for the arrangement shown.
चित्र में दिखाई व्यवस्था में अन्तिम प्रतिबिम्ब की स्थिति O से क्या होगी?

7 / 20

A concave mirror of focal length 'f1' is placed at a distance of 'd' from a convex lens of focal length 'f2'. A beam of light coming from infinity and falling on this convex lens-concave mirror combination returns to infinity. The distance 'd' must equal :
'f1' फोकस दूरी का एक अवतल दर्पण 'f2' फोकस दूरी के एक उत्तल लेंस से d दूरी पर रखा गया है। अनन्त से आता हुआ एक किरण पुंज, उत्तल लेंस तथा अवतल दर्पण के इस संयोजन पर टकराता है और अपने मार्ग पर पुनः अनन्त को वापस लौट जाता है। तो दूरी 'd' का मान होगा :

8 / 20

If the focal length of objective lens is increased then magnifying power of :-
यदि, अभिदृश्यक लेंस की फोकस दूरी को बढ़ा दिया :

9 / 20

When a biconvex lens of glass having refractive index 1.47 is dipped in a liquid, it acts as a plane sheet of glass. This implies that the liquid must have refractive index.
जब 1.47 अपवर्तनांक के काँच के किसी उभयोत्तल लेंस को किसी द्रव में डुबाया जाता है तो, यह एक समतल शीट (परत) की भाँति व्यवहार करता है। इसका तात्पर्य यह है कि इस द्रव का अपवर्तनांक है

10 / 20

A thin prism having refracting angle 10° is made of glass of refractive index 1.42. This prism is combined with another thin prism of glass of refractive index 1.7. This combination produces dispersion without deviation. The refracting angle of second prism should be :-
1.42 अपवर्तनांक के काँच से बने, एक पतले प्रिज्म का अपवर्तक कोण 1.7.10° है। 1.7 अपवर्तनांक के काँच से बने एक अन्य पतले प्रिज्म से जोड़ दिया जाता है। इस संयोजन से विचलनरहित परिक्षेपण प्राप्त होता है, तो दूसरे प्रिज्म का अपवर्तक कोण होना चाहिये

11 / 20

Which of the following produces a virtual image?
इनमें से किसमें हमें आभासी प्रतिबिम्ब मिलता

12 / 20

For the angle of minimum deviation of a prism to be equal to its refracting angle, the prism must be made of a material whose refractive index :-
किसी प्रिज्म के न्यूनतम विचलन कोण का मान उसके अपवर्तक कोण के बराबर होगा यदि, प्रिज्म के पदार्थ का अपवर्तनांक हो :

13 / 20

An object is placed at a distance of 40 cm from a concave mirror of focal length 15 cm. If the object is displaced through a distance of 20 cm towards the mirror, the displacement of the image will be:-
कोई बिम्ब 15 cm फोकस दूरी के किसी अवतल दर्पण से 40cm दूरी पर स्थित है। यदि इस बिम्ब को दर्पण की दिशा में 20 cm स्थानान्तरित कर दिया जाए, तो प्रतिबिम्ब कितनी दूरी पर विस्थापित हो जाएगा ?

14 / 20

A beam of light from a source L is incident normally on a plane mirror fixed at a certain distance x from the source. The beam is reflected back as a spot on a scale placed just above the source L. When the mirror is rotated through a small angle q, the spot of the light is found to move through a distance y on the scale. The angle q is given by :-
किसी प्रकाश स्त्रोत, L से, प्रकाश का एक किरणपुंज, उससे x दूरी पर स्थित एक समतल दर्पण पर लम्बवत् पड़ता है। इस किरणपुंज के वापस परावर्तन से, स्त्रोत L के ठीक ऊपर स्थित एक पैमाने (स्केल) पर प्रकाश का एक बिन्दु बनता है। दर्पण को किसी अल्प कोण, 0 से घुमाने पर, यह प्रकाश बिन्दु उस पैमाने पर y दूरी से विचलित हो जाता है। तो, का मान होगा:

15 / 20

A beam of light consisting of red, green and blue colours is incident on a right angled prism. The refractive index of the material of the prism for the above red, green and blue wavelengths are 1.39, 1.44 and 1.47, respectively. The prism will :-
एक प्रकाश किरणपुंज, लाल, हरे तथा नीले रंगों से बना है। यह किरणपुंज किसी समकोणी प्रिज्म पर आपतित होता है (आरेख देखिये)। प्रिज्म के पदार्थ का अपवर्तनांक, लाल, हरे व नीले रंग के लिये क्रमश: 1.39, 1.44 तथा 1.47 है

16 / 20

A ray of light is incident on a 60° prism at the minimum deviation position. The angle of refraction at the first face (i.e., incident face) of the prism is:-
60° के किसी प्रिज्म पर प्रकाश की एक किरण अल्पतम विचलन की स्थिति पर आपतित होती है। पहले पार्श्व (फलक) पर (अर्थात्आपतन पार्श्व पर) अपवर्तन कोण है:

17 / 20

As shown in figure light P enters to slab at an angle 60° with normal and inside slab Q makes total internal reflection. Find minimum refractive index of slab.
चित्रानुसार प्रकाश किरण P काँच की पट्टिका में अभिलम्ब से 60° के कोण पर प्रवेश करती है। प्रकाश किरणQ का पूर्ण आन्तरिक परावर्तन होता है तो काँच पट्टिा का न्युनतम अपवर्तनांक होगा :

18 / 20

A ray of light is incident at an angle of incidence, i, on one face of a prism of angle A (assumed to be small) and emerges normally from the opposite face. If the refractive index of the prism is μ, the angle of incidence i, is nearly equal to :
प्रकाश की एक किरण, किसी प्रिज्म के एक फलक पर। कोण पर आपतित होती है तथा उसके विपरीत फलक से उस के लम्बवत् निर्गत होती है। यदि प्रिज्म का अपवर्तनांक μ है । का मान लगभग बराबर है :

19 / 20

A rod of length 10 cm lies along the principal axis of a concave mirror of focal length 10 cm in such a way that its end closer to the pole is 20 cm away from the mirror. The length of the image is :-
10 cm लम्बी एक छड़ को, 10cm फोकस दूरी के एक अवतल दर्पण की मुख्य अक्ष के अनुदिश इस प्रकार रखा गया है कि छड़ का, दर्पण के ध्रुव के पास वाला सिरा, दर्पण के ध्रुव से 20 cm दूर है

20 / 20

A lens has one concave surface of R1 = 2 m and convex surface with R2 = 3 m then focal length of lens is ( If μr = 1.5)
एक लेंन्स जिसकी एक सतह R1 = 2m की अवतल तथा दूसरी सतह R2 = 3m की उत्तल है तो लेन्स की फोकस दूरी होगी( यदि μr =1.5)

Your score is

The average score is 0%

0%




Welcome to the online physics test series for the NEET & JEE entrance exam. On this page you can find chapter wise physics mock tests for the NEET & JEE  exam. Practicing physics questions is very important as it helps in clear the concepts over a period of time. With these NEET & JEE physics questions, you can get a boost in your confidence when it comes to problem-solving in physics.

  • The test is of 20-minutes duration and it contains 20 Questions.
  • Practicing such tests would give you added confidence while attempting your exam.
  • Why wait to take the test and get an instant evaluation.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You cannot copy content