0%
50

All The Best

All The Best


Created on By aajkatopper

Physics

Wave Optics

WAVE OPTICS TEST - 6

1 / 20

In an YDSE, the fringes are formed at a distance of 1 m from double slits of separation 0.12 mm. Calculate the wave-length of light used, its distance of 3rd bright band from the centre of screen is 1.5 cm.
YDSE में, द्विस्लिट जिनके बीच की दूरी 0.12mm है, 1m की दूरी पर फ्रिंज बनते हैं। प्रयुक्त प्रकाश का तरंगदैर्ध्य ज्ञात कीजिए यदि तृतीय उच्चिष्ठ पर्दे के केन्द्र से 1.5 cm की दूरी पर बनता है।

2 / 20

In YDSE distance between slits and screen is 1.5m. When light of wavelength 500 nm is used then 2nd bright fringe is obtained on screen at a distance of 10 mm from central bright fringe. What will be shift in position of 2nd bright fringe if light of wavelength 550 nm is used.
YDSE प्रयोग में झिर्री और पर्दे के बीच की दूरी 1.5m है। 500nm तरंगदैर्ध्य का प्रकाश उपयोग में लेने पर दूसरी चमकीली फ्रिंज पर्दे पर केन्द्रीय चमकीली फ्रिंज से 10mm दूरी पर बनती है। यदि 550nm तरंगदैर्ध्य के प्रकाश को उपयोग में लिया जाये तो दूसरी चमकीली फ्रिंज की स्थिति में परिवर्तन होगा :

3 / 20

The intensity at the maximum in a Young's double slit experiment is I0. Distance between two slits is d = 5λ, where λl is the wavelength of light used in the experiment. What will be the intensity in front of one of the slits on the screen placed at a distance D = 10 d ?
यंग के किसी द्वि झिरी प्रयोग में उच्चिष्ठ की तीव्रता I0 है। झिरियों के बीच की दूरी d = 5λ है, λ प्रयोग में उपयोग किए गए प्रकाश की तरंगदैर्ध्य है। किसी एक झिरी के सामने दूरी D = 10d पर स्थित पर्दे पर तीव्रता क्या होगी ?

4 / 20

A ray of unpolarised light is incident on a glass plate at the polarising angle θP. Then
अध्रुवित प्रकाश की एक किरण, काँच की प्लेट पर ध्रुवण कोण θP पर आपतित होती है, तो

5 / 20

Two Polaroids P1 and P2 are placed with their axis perpendicular to each other. Unpolarised light I0 is incident on P1 . A third polaroid P3 is kept in between P1 and P2 such that its axis makes an angle 45° with that of P1 . The intensity of transmitted light through P2 is :-
दो पोलेरॉइड P1 तथा P2 को इस प्रकार रखा गया है कि, इनकी अक्ष आपस में लम्बवत् हैं। P1 पर आपतित अध्रुवित प्रकाश की तीव्रता Io है। P1 और P2 के बीच में एक अन्य पोलेरॉइड P3 को इस प्रकार रखा जाता है कि इसकी अक्ष P1 की अक्ष से 45° का कोण बनाती तो, P2 से पारगत प्रकाश की तीव्रता है :

6 / 20

The ratio of resolving powers of an optical microscope for two wavelengthsλ1 = 4000 Å and λ2 = 6000 Å is :-
प्रकाश की तरंगदैर्थ्यो, λ1 = 4000 Å और λ2 = 6000 Å के लिये, प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी की विभेदन क्षमताओं का अनुपात है :

7 / 20

In the Young's double-slit experiment, the intensity of light at a point on the screen where the path difference is λ is K, (λ being the wave length of light used). The intensity at a point where the path difference is λ/4, will be :-
यंग के द्वि-झिरी प्रयोग में, पर्दे के किसी बिंदु पर λ पथांतर होने से, वहाँ प्रकाश की तीव्रता 'K' है, (λ.' प्रयुक्त प्रकाश की तरंगदैर्ध्य है। तो पर्दे के उस बिंदु पर जहाँ पथांतर λ/4 हैं, तीव्रता होगी:

8 / 20

A light ray is incident on a glass slab, it is partially reflected and partially transmitted. Then the reflected ray is :-
प्रकाश की एक किरण कांच की एक पट्टिका पर आपतित होती है। यह आंशिक रूप से परावर्तित तथा आंशिक रूप से अपवर्तित होती है, तो परावर्तित किरण होगी

9 / 20

In a Young's double slit experiment the spacing between the slits is 0.3 mm and the screen is kept at a distance of 1.5 m. The second bright fringe is found to be displaced by 6 mm from the central fringe. The wavelength of the light used in the experiment is :-
यंग द्विछिद्र प्रयोग में स्लिटों के मध्य दूरी 0.3mm है पर्दा 1.5m की दूरी पर रखा गया है। द्वितीय दीप्त फ्रिन्ज, केन्द्रीय फ्रिन्ज से 6mm की दूरी पर पाई गयी। प्रयोग में काम में लिये प्रकाश का तरंगदैर्ध्य है : -

10 / 20

The interference pattern is obtained with two coherent light sources of intensity ratio n. In the interference pattern, the ratio \frac{I_{max}-I_{min}}{I_{max}+I_{min}} will be :-
प्रकाश के दो कलासम्बद्ध स्त्रोतों का तीव्रता अनुपात n है। इनके अध्यारोपण से प्राप्त व्यतिकरण पैटर्न में अनुपात \frac{I_{max}-I_{min}}{I_{max}+I_{min}} का मान होगा

11 / 20

In a diffraction pattern due to a single slit of width 'a', the first minimum is observed at an angle 30° when light of wavelength 5000 Å is incident on the slit. The first secondary maximum is observed at an angle of :
जब चौड़ाई 'a' की किसी एकल झिरी पर 5000Å तरंगदैर्ध्य का प्रकाश आपतन करता है, तो झिरी के कारण उत्पन्न विवर्तन पैटर्न में 30° के कोण पर पहला निनिम्नष्ठ दिखाई देता है। पहला द्वितीयक उच्चिष्ठ जिसे कोण पर दिखाई देगा, वह है:

12 / 20

At the first minimum adjacent to the central maximum of a single-slit diffraction pattern the phase difference between the Huygen's wavelet from the edge of the slit and the wavelet from the mid point of the slit is :-
एकल झिरी विवर्तन पैटर्न में, केन्द्रीय उच्चिष्ठ के निकटवर्ती प्रथम निम्निष्ठ पर, झिरी के किनारे तथा उसके मध्य विन्दु से उत्पन्न हाइगेन्स-तरंगिकाओं के बीच पथान्तर होता है

13 / 20

Intensity of two interfering coherent sources is 9 units and 4 units respectively. What is the maximum intensity in the interference pattern?
दो कला सम्बद्ध स्रोत की तीव्रता क्रमश: 9 ईकाई तथा 4 इकाई है। इस व्यतिकरण प्रारूप में अधिकतम तीव्रता क्या होगी ?

14 / 20

A polaroid making an anlge 60° with electric vector then intensity reduced by a factor of :-
एक पोलेराइड प्रकाश के विद्युत सदिश के साथ 60° का कोण बनाता है तो प्रकाश की तीव्रता किस भाग से घटेगी ?

15 / 20

The reflected ray is completely polarized when a ray is incident at a medium of refractive index 1.73, then the value of angle of refraction ?
जब प्रकाश 1.73 अपवर्तनांक वाले माध्यम पर ऐसे आपतित होता है कि परावर्तित प्रकाश पूर्ण रूप से ध्रुवित हो तो अपवर्तन कोण का मान होगा ?

16 / 20

A parallel beam of fast moving electrons is incident normally on a narrow slit. A fluorescent screen is placed at a large distance from the slit. If the speed of the electrons is increased, which of the following statements is correct ?
द्रुत वेग से चलती हुई इलेक्ट्रॉनों की एक समान्तर किरणपुंज, किसी पतली झिरी पर लम्बवत् आपतित है। इस झिरी से अत्यधिक दूरी पर एक प्रतिदीप्त पर्दा रखा है। यदि, इलेक्ट्रॉनों की चाल को बढ़ा दिया जाए तो, निम्नांकित में से कौनसा कथन सत्य होगा?

17 / 20

Young's double slit experment is first performed in air and then in a medium other than air. It is found that 8th bright fringe in the medium lies where 5th dark fringe lies in air. The refractive index of the medium is nearly :-
यंग के द्वि झिरी प्रयोग को पहले वायु में और फिर किसी अन्य माध्यम में किया जाता है। यह पाया जाता है कि, इस माध्यम में 8 वीं दीप्त फ्रिंज तथा वायु में 5 वीं अदीप्त फ्रिंज एक ही स्थान पर बनते हैं। तो, इस माध्यम का अपवर्तनांक होगा लगभग:

18 / 20

The interference pattern shifts downward by 4mm, when a polystyrene sheet of refractive index 1.8 is place in front of the lower slit. If wavelength used is λ = 683 nm, separation between slits is 2 mm and separation between slits and screen is 10 cm then thickness of sheet
व्यतिकरण प्रतिरूप में 1.8 अपवर्तनांक की जब एक पालिस्टाइरिन की पट्टिका निचली स्लिट के सामने रखी जाती है तो व्यतिकरण प्रतिरूप 4mm नीचे विस्थापित हो जाता है। यदि प्रकाश की तरंगदैर्ध्य λ = 683nm हो तथा स्लिटों के बीच की दूरी d = 2mm तथा स्लिट एवं पर्दे की दूरी D=10cm हो तो पट्टिका की चौड़ाई होगी

19 / 20

In Young's double slit experiment, the slits are 2mm apart and are illuminated by photons of two wavelengths λ1 = 12000Å and λ2 = 10000Å. At what minimum distance from the common central bright fringe on the screen 2m from the slit will a bright fringe from one interference pattern coincide with a bright fringe from the other ?
यंग के एक द्विझिरी प्रयोग में झिरियों (स्लिटों) के बीच की दूरी 2mm है λ1 = 12000Å तथा λ2 = 10000Å तरंगदैर्ध्य के फोटॉनों से प्रदीप्त (प्रकाशित किया गया है। यदि झिरियों से पर्दे की दूरी 2m हो तो, केन्द्रीय दीप्त फ्रिंज के कितनी न्यूनतम दूरी पर, व्यतिकरण के उत्पन्न दोनों तरंगों की दीप्त फ्रिजें संपाती (एक दूसरे के ऊपर) होंगी ?

20 / 20

For a parallel beam of monochromatic light of wavelength 'λ', diffraction is produced by a single slit whose width 'a' is of the order of the wavelength of the light. If 'D' is the distance of the screen from the slit, the width of the central maxima will be :
किसी एकल झिरी (स्लिट) की चौड़ाई 'a', प्रकाश की तरंगदैर्ध्य की कोटि की है। इस झिरी पर 'λ' तरंगदैर्ध्य की एकवर्णी प्रकाश की समान्तर किरण पुंज आपतित होने से विवर्तन उत्पन्न होता है। यदि झिरी से पर्दे की दूरी 'D' हो तो, केन्द्रीय उच्चिष्ठ की चौड़ाई होगी :

Your score is

The average score is 25%

0%




Welcome to the online physics test series for the NEET & JEE entrance exam. On this page you can find chapter wise physics mock tests for the NEET & JEE  exam. Practicing physics questions is very important as it helps in clear the concepts over a period of time. With these NEET & JEE physics questions, you can get a boost in your confidence when it comes to problem-solving in physics.

  • The test is of 20-minutes duration and it contains 20 Questions.
  • Practicing such tests would give you added confidence while attempting your exam.
  • Why wait to take the test and get an instant evaluation.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You cannot copy content