राजस्थान की मृदा नोट्स

राजस्थान की मृदा-Soils of Rajasthan

राजस्थान की मिट्टियाँ

(1) रैतीली बलुई मिट्टी : विस्तार- प्रधानतः जैसलमेर, बीकानेर, जोधपुर, बाड़मेर।

  • इस मृदा में नाइट्रोजन व कार्बन तत्वों की कमी व कैल्सियम व फास्फेट लवण अधिकता में है।
  • यहा मृदा बाजरे के लिए उपयुक्त है। मृदा कण मोटे होते हैं। जल धारण की क्षमता कम।

(2) भूरी रेतीली या लाल-पीली रेतीली मिट्टी : विस्तार-सर्वाधिक विस्तारित मृदा प्रकार इसे मरुस्थलीय मिट्‌टी भी कहा जाता है।

  • इस मिट्टी में नाइट्रेट उपस्थित होता है। अतः यहां दलहनी फसलें उपस्थित होती हैं।
  • जिले-गंगानगर, हनुमानगढ़, बीकानेर, चूरू, जौधपुर, सीकर, झुन्झुनूं, बाड़मेर (कुछ हिस्सा बाड़मेर का), नागौर।

(3) सिरोजम/धूसर मिट्टी : यहां पर नाइट्रोजन (N) व कार्बन (C) तत्वों की कमी है लेकिन Ca लवण अधिक है।

  • विस्तार-जालौर, सिरोही, पाली, अजमेर, नागौर व जयपुर, सीकर में भी इस मृदा का विस्तार है।
  • इस मिट्‌टी का उर्वर शक्ति कम।

(4) पर्वतीय मिट्टी : अरावली पर्वत की तलहटी में।

  • पर्वतीय मिट्टी कम गहरी होती है।
  • पर्वतीय मिट्टी में पहाड़ी ढ़लानों पर स्थानान्तरित खेती की जाती है।
  • उत्तरी पूर्वी भारत में इस तरह की कृषि को झूमिंग खेती कहते हैं।
  • राजस्थान में गरासिया जनजाति जो स्थानान्तरित खेती करती है उसेवालरा कहते हैं।
  • भील इस प्रकार की खेती को दजिया (मैदानी भागों में) या चिमाता (पहाड़ी तलहटी) कहते हैं। खेती – मक्का।


(5) लाल दोमट (लाल लोमी मृदा) : उत्तरी राजसमंद, पूर्वी प्रतापगढ़ व पूर्वी बांसवाड़ा को छोड़कर सम्पूर्ण उदयपुर संभाग में यह पाई जाती है।

  • बारीक कण, नमी धारण की अधिक क्षमता।
  • लोह तत्व के कारण मिट्टी का रंग लाल होता है।
  • लोहा व पोटाश की अधिकता एवं Ca व P की कमी।
  • मक्का, ज्वार की खेती के लिए सर्वाधिक उपयुक्त।

(6) मध्यम काली मिट्टी : पश्चिमी झालावाड़ को छोड़कर शेष कोटा संभाग में मध्यम काली मिट्टी होती है। इस मिट्टी का रेगुड़/रेगुर भी कहते हैं।

  • ज्वालामुखी के लावा से निर्मित मृदा है। इस मिट्टी के कण सबसे महीन होते हैं। अतः जल धारण क्षमता सर्वाधिक है।
  • कपास की खेती के लिए यह क्षेत्र उपयुक्त है।
  • Ca व पोटाश की अधिकता तथा फॉस्फेट, नाइट्रोजन की कमी होती है।


(7) भूरी मिट्टी : बनास नदी का अपवाह क्षेत्र में यह मृदा मिलती है। भूरी – लाल + पीली।

  • राजसमंद का उत्तरी भाग, टोंक, भीलवाड़ा, अजमेर, टोंक, सवाईमाधोपुर में पाई जाती है।
  • नाइट्रोजनी एवं फास्फोरस तत्वों का अभाव।
  • यह जौ की खेती के लिए उपयुक्त है परन्तु जौ सर्वाधिक जयपुर में होता है।

(8) कछारी/दोमट/जलोढ़ : बाणगंगा व करौली के मैदानी क्षेत्रों में (गंभीर नदी का क्षेत्र) यह मृदा है।

  • यहां N तत्व सर्वाधिक है तथा यह राजस्थान की सर्वाधिक उपयुक्त (उपजाऊ) मिट्टी है।
  • फास्फेट व कैल्शियम तत्वों की अल्पता।
  • यहां गेहूँ, जौ, सरसों, तम्बाकू के लिए उपयुक्त है। जिले-अलवर, भरतपुर, धौलपुर, करौली, जयपुर व दौसा।

(9) लवणीय मिट्टी : खारे पानी की झीलों के आस-पास का क्षेत्र लवणीय मिट्टी वाला है।

  • सेम समस्या वाले क्षेत्रों में – हनुमानगढ़, गंगानगर में तथा वस्त्र उद्योग (रंगाई – छपाई) वाले क्षेत्रों पाली, बालोतरा आदि में।
  • कच्छ के रण का आस-पास का क्षेत्र व जालौर का कुछ भाग।
  • क्षारीय एवं लवणीयमिट्टी को ऊसर, क्लर रेही या नमकीन मिट्टी भी कहते हैं। लवणीयता की समस्या कम करने हेतु रॉक फॉस्फेट का प्रयोग या सुबबूल (लुसिआना ल्यूकोसेफला) उगाना कारगर है।
  • क्षारीयता की समस्या दूर करने हेतु जिप्सम की खाद या ग्वार की फसल की कटाई का प्रयोग किया जाता है।


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content