JET ICAR Horticulture Questions Part-1

उद्यान विज्ञान (HORTICULTURE)

प्रष्न रतौंधी बीमारी किस विटामिन की कमी से होती है:-

उत्तर विटामिन A की कमी से

प्रष्न विटामिन A के मुख्य स्त्रोत है:-
उत्तर आम, पपीता, कटहल, गाजर एवं खजूर।

प्रष्न विटामिन B1 का वैज्ञानिक नाम क्या हैः-
उत्तर थायमीन

प्रष्न बेरी-बेरी रोग किस विटामिन की कमी से हाता है:-
उत्तर विटामिन B1 की कमी से

प्रष्न विटामिन B के मुख्य स्त्रोत:-
उत्तर काजू, केला, ग्रेपफ्रुट।



प्रष्न विटामिन B2 का वैज्ञानिक नाम:-

उत्तर राइबोफ्लेविन।

प्रष्न विटामिन B2 के मुख्य स्त्रोत:-
उत्तर केला, लीची, पपीता।

उत्तर विटामिन B5 का वैज्ञानिक नाम:-
उत्तर निकोटिनिक अम्ल।

प्रष्न विटामिन C का वैज्ञानिक नाम:-
उत्तर एस्कोर्बिक अम्ल।

प्रष्न स्कर्वी रोग किस विटामिन की कमी से होता है:-
उत्तर विटामिन C की कमी से

प्रष्न विटामिन C के मुख्य स्त्रोत:-
उत्तर चेरी आंवला, अमरूद, नींबू वर्गीय फल।

प्रष्न बच्चों में सूखा रोग हो जाता है:-
उत्तर कैल्शियम की कमी से।

प्रष्न एनीमिया (खून की कमी) किस खनिज लवण की कमी से होता है:-
उत्तर लोहे की कमी से

प्रष्न कोशिकाओं के गुणन तथा उत्तकों में उचित द्रव अंश के अमुरक्षण कु.प्रभावित होना किस खनिज की कमी से होता हे:-
उत्तर फाॅस्फोरस



प्रष्न प्रतिदिन भोजन में कितने ग्राम फलों का सेवन करना चाहिये।

उत्तर 85 ग्राम

प्रष्न राजस्थान में प्रति व्यक्ति प्रतिदिन कितने ग्राम फलों का सेवन है:-
उत्तर 2 ग्राम

प्रष्न भारत में प्रति व्यक्ति प्रतिदिन कितने ग्राम फलों का सेवन करता है:-
उत्तर 10-12 ग्राम

प्रष्न किस फल का प्रयोग च्यवनप्राश बनाने में किया जाता है:-
उत्तर आंवला

प्रष्न बेल पत्र व पपीते का उपयोग किन विकारों में किया जाता है:-
उत्तर पेट सम्बन्धित विकारो में।

प्रष्न पपीते से क्या निकाला जाता है:-
उत्तर पपेन

प्रष्न हवन के लिये किसकी लकड़ियों की आवश्यकता होती है:-
उत्तर आम

प्रष्न वृक्ष कौनसी गैस को छोड़ते है:-
उत्तर आॅक्सीजन



प्रष्न वृक्ष कौनसी गैस का अवशोषण करते है:-

उत्तर CO2

प्रष्न विश्व में भारत का फल तथा सबजी उत्पादन में कौनसा है:-
उत्तर दूसरा

प्रष्न विश्व में फल व सब्जी उत्पादन में पहला स्थान कौनसे देश का हैः-
उत्तर चीन

प्रष्न देश में फलोत्पादन का कितने लाख है. क्षेत्रफल में किया जाता है
उत्तर 39.40 लाख हैक्टेयर

प्रष्न बेर कहां के प्रसिद्ध है:-
उत्तर जोधपुर व चैमू के।

प्रष्न विश्व का लगभग कितने प्रतिशत आम भारत में पैदा होता है:-
उत्तर 60%

प्रष्न राष्ट्रीय होर्टीकल्चर मिशन की घोषणा कब हुई:-
उत्तर 2005

प्रष्न माल्टा व किन्नों के उत्पादन में अग्रणी जिला है:-
उत्तर श्रीगंगागर ।

प्रष्न फलवृक्ष की उम्र किससे ज्ञात की जाती है:-
उत्तर सांकुर शाखा से ।

प्रष्न पौधे खरीदते समय पौधे की आयु होनी चाहिये:-
उत्तर 1-2 वर्ष



प्रष्न नर्सरी में पौधों की ग्रेडिंग की जाती है:-

उत्तर तने की लम्बाई व मोटाई से

प्रष्न अधिक उम्र के पौध रोपण से सफलता प्रतिशत:-
उत्तर कम होती है

प्रष्न पाले का प्रभाव सर्वाधिक कौनसे फलवृक्षों पर अध्ािक होता है:-
उत्तर पपीता/केला

प्रष्न फल वृक्षों को पाले के प्रभाव से बचाने हेतु कितना % गंधक के अम्ल का छिड़काव करते है
उत्तर 0.1%

प्रष्न गर्म हवायें कौनसी दिशा से आती है:-
उत्तर उत्तरी पश्चिमी दिशा से।

प्रष्न सफेद रंग गर्मी का क्या होता है:-
उत्तर कुचालक।

प्रष्न लू से बचाव हेतु क्या करते है।
उत्तर चूने का लेप कर देते है।

प्रष्न फलवृक्षों में सिंचाई करने की सबसे प्रयुक्त विधि।
उत्तर ड्रिप विधि (ट्रिकल) माइक्रोइरीगेशन

प्रष्न तापमान बढ़ने पर वाष्पोत्सर्जन की दर:-
उत्तर बढ़ती है।

प्रष्न वर्षा का बहुत कम या नहीं होना कहलाता है।
उत्तर अनावृष्टि।

प्रष्न प्राकृतिक रूप से प्रसारण का उत्तम उदाहरण है:-
उत्तर लैंगिक प्रवर्धन या बीज द्वारा प्रवर्धन।

प्रष्न बीज द्वारा या लैंगिक विधि से तैयार पौधों को कहते है:-
उत्तर बीजू पौधे (Seeding)

प्रष्न कौनसे पौधेों में प्रवर्धन बीज द्वारा ही सम्भव है:-
उत्तर पपीता, फालसा।

प्रष्न बहुभ्रूणता का गुण पाया जाता है:-
उत्तर आम तथा नींबू में।

प्रष्न बीज के अतिरिक्त पौधे के अन्य वानस्पतिक भागों द्वारा पौधे तैयार को कहते है:-
उत्तर अलैंगिक प्रवर्धन।

प्रष्न कौनसे पौधों में बीज नहीं होता है:-
उत्तर केला तथा बेंदाना अंगुर में।

प्रष्न पुराने अफलन वाले पौधेां में किस विधि का प्रयोग किया जाता है:-
उत्तर अलैंगिक विधि का।

प्रष्न पुष्प वालों पौधें में बीजाणु द्वारा प्रजनन किसमें पाया जाता है:-
उत्तर आर्किड।

प्रष्न विकसित पौधें को उनके मातृ पौधें से अलग कर नया पौधा तैयार को कहते है:-
उत्तर विभाजन

प्रष्न अंकुरित कलियों को कहा जाता है।
उत्तर पत्तीभ्रूण



प्रष्न सदाबहार पौधों की कलम लगायी जाती है

उत्तर बंसत ऋतु में

प्रष्न पतझड़ी पौधेां की कलम लगायी जाती है:-
उत्तर वर्षाऋतु में।

प्रष्न आम में प्रवर्धन किया जाता है:-
उत्तर वीनियर ग्राफ्टिंग/सोफ्टवुड ग्राफ्टिंग

प्रष्न ग्राफ्टिंग में पौधे का ऊपर वाला भाग कहा जाता है:-
उत्तर सांकुर

प्रष्न शल्कन्द का उदाहरण है:-
उत्तर लहसुन।

प्रष्न वह विधि जिससे सबसे अध्ािक पौधे तैयार किये जा सकते है:-
उत्तर उत्तक संवर्धन (Tissue culture)

प्रष्न किसी भी स्थान की जलवायु वहां की वर्ष भर की वर्षा, प्रकाश, तापक्रम तथा वायु के दबाव के औसत को कहा जाता है:-
उत्तर जलवायु (climate)

प्रष्न फलोधान के लिये सबसे सर्वोत्तम मृदा।
उत्तर दोमट या बलुई मृदा।

प्रष्न किन फलों को कम पानी की आवश्यकता होती है:-
उत्तर आंवला, बेर, फालसा।

प्रष्न ईंटों के भट्टे के पास किस फल का बाग नहीं लगाना चाहिये:-
उत्तर आम

प्रष्न धुएँ से कौनसी व्याधि होती है (ईंटों के भट्टे से):-
उत्तर ब्लेक टिप

प्रष्न ब्लेक टिप किस गैस के कारण होता है:-
उत्तर SO2

प्रष्न बाड़ के लिये उपयुक्त वृक्ष:-
उत्तर जंगल जलेबी, विलायती बबूल, करोंदा, महेंदी, रतनजोत।

प्रष्न वायु रोधी वृक्ष:-
उत्तर देशी आम, जामुन, शहतूत, नीम, शीशम।

प्रष्न फल वृक्षों की प्रथम कतार पौधे लगाने की दूरी से होनी चाहिये:-
उत्तर आधी

प्रष्न उधान के रेखांकन की सबसे सरल विधि:-
उत्तर वर्गाकार विधि।

प्रष्न किस विधि में पौधे से पौधे की दूरी तथा कतार से कतार की दूरी समान होती है:-
उत्तर वर्गाकार विधि।

प्रष्न किस विधि में शहर के पास महंगी भूमि में पौधे लगाये जाते है:-
उत्तर षट्भुजाकार विधि।

प्रष्न षट्भुजाकार विधि में कितने % अधिक पौधे वर्गाकार विधि की तुलना में लगाये जाते है:-
उत्तर 15%

प्रष्न किस विध में वर्गाकार विधि की तुलना में 50% अध्ािक पौधे लगाये जाते है:-
उत्तर पंचभुजाकार विधि में।

प्रष्न पहाड़ी क्षेत्रों में किस विधि का सर्वाधिक प्रयोग किया जाता है:-
उत्तर कण्टूर विधि (समुच्च रेखा विधि)



प्रष्न पौधे लगाने के कितने माह पूर्व गड्डे खोदे जाते है:-

उत्तर 1 माह पूर्व

प्रष्न वर्षा ऋतु में किस माह में गड्डे खोदे जाते है:-
उत्तर मई-जून माह में।

प्रष्न बसंत ऋतु में किस माह में गड्डे खोदे जाते है:-
उत्तर जनवरी माह में

प्रष्न बड़े आकार के फलवृक्षों के लिये गड्डे की आकृति।
उत्तर 1×1×1 cm

प्रष्न मध्यम आकार के फलवृक्षों के लिये गड्डे की आकृति:-
उत्तर 75×75×75 cm

प्रष्न छोटे फल वृक्षों के लिये गड्डे का आकार:-
उत्तर 50×50×50 cm

प्रष्न गड्डों की मिट्टी में गोबर की खाद/कम्पोस्ट का अनुपात:-
उत्तर 1 : 1

प्रष्न पौधों को हमेशा किस समय लगाना चाहिये:-
उत्तर शाम को

प्रष्न किन्नों उत्पादन में अग्रणी जिला है:-
उत्तर श्री गंगानगर।

प्रष्न पूरक विधि में पूरक पौधे के रूप में सबसे उपयुक्त है:-
उत्तर पपीता

प्रष्न उधान अथवा उधान के किसी फल वृक्ष द्वारा फल बिल्कुल पैदा न करने या बहुत ही कम व घटिया किस्म के फल पैदा करना कहलाता है:-
उत्तर अफलन।

प्रष्न उधान से आमदनी कम व लागत अधिक होने को कहते है:-
उत्तर अनुत्पादकता।

प्रष्न एकलिगांश्रयी (डायोसिस) का उदाहरणः-
उत्तर कटहल।

प्रष्न द्विलिंगाश्रयी (मानोसियस) का उदाहरणः-
उत्तर पपीता, खजूर।

प्रष्न लिंग समस्या दूर की जा सकती है:-
उत्तर फलोउधान में 10% नर पौधे लगाकर।

प्रष्न डाइकोगेमी कहते है:-
उत्तर नर व मादा अंगों की परिपक्वता का समय अलग-अलग।

प्रष्न नर अंगों के पहले पकने को कहते है:-
उत्तर प्रोटोएण्ड्री (सीताफल)

प्रष्न मादा अंगों के पहले पकने को कहते है:-
उत्तर प्रोटोगायनी (चीकू)

प्रष्न जो वृक्ष दूसरों को पराग देते है:-
उत्तर पोलीनाइजर्स

प्रष्न फल वृक्षों में फलत के लिये उत्तरदायी होता हैः-
उत्तर कार्बोहाइड्रेट

प्रष्न अफलन का अन्तरिक कारण:-
उत्तर स्वबंध्यता।

प्रष्न परागकण की क्रिया सम्पन्न करने में सहायक कारक नहीं है:-
उत्तर वायु



प्रष्न आलू में सुषुप्तावस्था हटाई जाता है:-

उत्तर थायो यूरिया से।

प्रष्न फलों को बीज रहित बनाने में अधिक प्रभावशाली है:-
उत्तर जिब्रेलिन्स।

प्रष्न वृद्धिरोधक हार्मोन।
उत्तर एब्सिसिक एक्सिड़

प्रष्न फलों को पकाने वाली गैस:-
उत्तर इथाइलीन।

प्रष्न खरपतवारनाशी के रूप में काम आता है:-
उत्तर 2, 4-D

प्रष्न फलों का श्रेणीकरण किस उपकरण द्वारा किया जाता है:-
उत्तर ग्रेडर

प्रष्न नींबू वर्गीय फलों को प्रायः कितने प्रतिशत औसतन नमी पर भण्डारित किया जाता है:-
उत्तर 80-85%

प्रष्न आम के फलों को कितने डिग्री सेल्सियस तापक्रम पर भण्डारित किया जाता है:-
उत्तर 8-9

प्रष्न फलों को निर्वात में रखकर भण्डारण करने की विध का नाम:-
उत्तर हाइपोबैरिक

प्रष्न फलों की तुड़ाई के बाद आॅक्सीवेज करने की विधि का नाम:-
उत्तर हाइपोबैरिक

प्रष्न फलों की तुड़ाई के बाद आॅक्सीवेज एन्जाइम की क्रियाशीलता:-
उत्तर कम होती है।

प्रष्न फलो का राजा (King of the furit)
उत्तर आम

प्रष्न Mango का B.N. है:-
उत्तर मैजीफैरा इण्डिका

प्रष्न Mango का कुल
उत्तर एनाकार्डिएसी

प्रष्न Mango का उत्पत्ति स्थल:-
उत्तर भारत-बर्मा क्षेत्र।

प्रष्न किस ग्रंथ में आम का वर्णन मिलता है:-
उत्तर शतपुत्र ब्राह्मण में।

प्रष्न Mango में विटामिन होते है:-
उत्तर A व C

प्रष्न भारत में सर्वाधिक आम कहां होते है:-
उत्तर उत्तरप्रदेश में।



प्रष्न आम के लिये जलवायु।

उत्तर उष्ण व उपोष्ण।

प्रष्न आम के वृद्धि के लिये उपयुक्त तापमान:-
उत्तर 24-28° से.

प्रष्न भारत में आम की किस्मे:-
उत्तर 30

प्रष्न D×N बराबर होता है (दशहरी × नीलम)
उत्तर A आम्रपाली

प्रष्न N×D बराबर होता है (नीलम × दशहरी)
उत्तर M मल्लिका।

प्रष्न आम की कौनसी किस्म में स्पोजी उत्तक समस्या होती है:-
उत्तर अलफेन्जो ।

प्रष्न आम की बीज रहित किस्म।
उत्तर सिन्धु।

प्रष्न IIHR (Indian Institute of Horticulture Research) स्थित है:-
उत्तर Hasergatta (Benglore)

प्रष्न Mango से उपज प्राप्त होती है:-
उत्तर 19 टन/है.

प्रष्न आम का मुख्य कीट है:-
उत्तर मिलीबग।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You cannot copy content