JET ICAR Agronomy Questions Part-8

प्रष्न मूंगफली का उत्पत्ति स्थान है:-

उत्तर ब्राजील (Brajil)

प्रष्न सोयाबीन का उत्पत्ति स्थान है:-
उत्तर चीन।

प्रष्न सोयाबीन में प्रोटीन होती है:-
उत्तर 40%

प्रष्न माॅर्डन सूर्या, BSH 1 किसकी किस्म है:-
उत्तर सूरजमुखी।

प्रष्न आलू का कन्द किसका परिवर्तित रूप है:-
उत्तर तने का।

प्रष्न आलू की बीज दर।
उत्तर 20-25 q/hac.

प्रष्न आलू के लिये उपयुक्त भूमि।
उत्तर बलुई, दोमट मृदा।

प्रष्न आलू में TPS द्वारा बोने के लिये बीजदर।
उत्तर 100-150 ग्राम/है.

प्रष्न तम्बाकू में निकोटिन का संश्लेषण पौधों के किस भाग में होता है:-
उत्तर जड़ में।



प्रष्न तम्बाकू में कौनसी शस्य क्रिया करते है:-

उत्तर टोपिंग, डिसकरिंग, प्रोगिंग, क्यूरिंग।

प्रष्न तम्बाकू की पौध कितने दिन में रोपण योग्य हो जाती है:-
उत्तर 40-50 दिन बाद।

प्रष्न कपास में ओराई प्रतिशत:-
उत्तर 33%

प्रष्न संकर कपास की बीजदर:-
उत्तर 2.5-3 kg/hac

प्रष्न कौनसा कीट कपास को सर्वाधिक हानि पहुँचाता है:-
उत्तर गुलाबी सुण्डी (Rink Grub)

प्रष्न सनई का उत्पत्ति स्थान:-
उत्तर ब्राजील।

प्रष्न हरी खाद के यिले सनई की बीजदर लेते है:-
उत्तर 90-100/hac.

प्रष्न देश का सर्वाधिक चावल उत्पादन कहाँ होता है:-
उत्तर पश्चिमी बंगाल में।

प्रष्न दलहनी फसलों का सर्वाधिक उत्पादन किस राज्य में होता है:-
उत्तर मध्यप्रदेश।

प्रष्न भारत का कौनसा प्रदेश सोयाबीन प्रदेश के नाम से जाना जाता है:-
उत्तर मध्यप्रदेश।

प्रष्न गन्ने का उत्पादन सर्वाधिक किस राज्य में होता है:-
उत्तर U.P.

प्रष्न भारत में सिंचित गेहूँ कितने प्रतिशत क्षेत्र में बोया जाता है:-
उत्तर 85%

प्रष्न भारत में वर्ष 2000-2001 में गेहूँ की औसत उपज कितनी थी।
उत्तर 27.4 kg/hac.

प्रष्न ग्वार में गोंद कितने प्रतिशत होता है:-
उत्तर 30%



प्रष्न बरसीम की बुवाई कब होती है:-

उत्तर अक्टूबर 1

प्रष्न चारे के लिये बाजरे की बीज दर रखते है:-
उत्तर 8-10 kg/hac

प्रष्न भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान कहाँ है:-
उत्तर लखनऊ Lucknow

प्रष्न जौ की मोल्या रोगरोधी किस्म है:-
उत्तर R.D. 387

प्रष्न जौ की लवणीयता सहन करने वलाी किस्म है:-
उत्तर BL2

प्रष्न देश के किस राज्य में सरसों व राया का सर्वाधिक क्षेत्रफल है:-
उत्तर राजस्थान (Rajasthan)

प्रष्न जीरे की बीदर
उत्तर 12-15 kg/hac.

प्रष्न RS-1, RZ-19, 209 किसकी किस्मे है:-
उत्तर जीरा।

प्रष्न PAU द्वारा विकसित बाजरे की किस्म है:-
उत्तर PCB2

प्रष्न ज्वार के चारे मे ंपाया जाने वला पदार्थ:-
उत्तर ग्लुकोसाइड धुरिन (HCN)

प्रष्न धान में चवल व छिलके का अनुपात:-
उत्तर 2 : 1

प्रष्न राइजोबियम जेपोनिकस नामक कल्चर किस फसल में प्रयाग लेते है:-
उत्तर सोयाबीन।

प्रष्न राजस्थान में किस घास फसल का उत्पादन सर्वाधिक होता है:-
उत्तर गेहूँ।

प्रष्न एक ही खेत में दो फसलों को साथ-साथ परन्तु अलग-अलग कतारेां में उगाना कहलाता है:-
उत्तर अन्तराशस्य क्रिया।

प्रष्न किस श्रेणी के बीजों को बोने के लिए प्रत्येक नववर्ष नये बीज प्रयोग में लाते है:-
उत्तर संकर।

प्रष्न कपास के बीजों में न्यूनतम अंकुरण क्षमात होनी चाहिये:-
उत्तर 65%



प्रष्न बीज उत्पादन का प्रथम चरण है:-

उत्तर मूलकेन्द्रक/प्रजनक।

प्रष्न राजस्थान में बीजों का प्रमाणीकरण करने वलाी संस्था है:-
उत्तर R.S.S.C.

प्रष्न प्रमाणित बीजों पर किस रंग का टेग लगा होता है:-
उत्तर नीले करंग का।

प्रष्न शुष्क कृषि के अन्तर्गत फसलों की बीजदर रखत है:-
उत्तर 15-20%

प्रष्न अरहर की बुवाई का उचित समयः-
उत्तर जुन-जुलाई

प्रष्न ढेले युक्त क्यारियाँ किस फसल के लिये आवश्यक होती है:-
उत्तर चना।

प्रष्न T-27 किसी किस्म में है:-
उत्तर तारामीरा।

प्रष्न किस वर्ग की फसलों में जिप्सम का प्रयोग करते है:-
उत्तर तिलहनी।

प्रष्न सुरजमुखी कौनसे कुल का पौधा है:-
उत्तर कम्पोजिटी।

प्रष्न साधारण मृदा का C : N होता है:-
उत्तर 1 : 10

प्रष्न मौसम क अध्ययन किया जाता है:-
उत्तर मिंटरीयोलोजी।

प्रष्न सर्वाधिक जल धारण क्षमता वाली मृदा है:-
उत्तर चिकनी।

प्रष्न धान्य फसल है:-
उत्तर धान।

प्रष्न फोर्टीनी गेनोमीटर से ज्ञात करते है:-
उत्तर वायुदाब।

प्रष्न प्रयोगशाल में ज्ञात नहीं किया जाता है:-
उत्तर मृदा उत्पादकता।

प्रष्न राजस्थान में चावल की खेती कौनसे क्षेत्र में प्रचलित है:-
उत्तर दक्षिणी पूर्वी।

प्रष्न राजस्थान में सर्वाधिक वर्षा होती है:-
उत्तर दक्षिणी-पश्चिमी से।



प्रष्न जौ का वानस्पतिक नाम है:-

उत्तर होर्डियम वाल्गेयर।

प्रष्न रबी की फसलों के लिये उपयुक्त तापमान है:-
उत्तर 25-30° सेन्टीग्रेड

प्रष्न दिवस प्रभावी पौधा है:-
उत्तर कपास, सुरजमुखी, टमाटर।

प्रष्न सर्वाधिक जल अवशेाषण करने वाली मृदा:-
उत्तर रेतीली।

प्रष्न किसी विशेष समय पर वायुमण्डल की अवस्था कहलाती है:-
उत्तर मौसम।

प्रष्न राजस्थान का सबसे बड़ा सस्य जलवायु खण्ड है:-
उत्तर IC (Bikaner)

प्रष्न राजस्थान में सबसे ज्यादा मृदा क्षरण होता है:-
उत्तर वायु द्वारा

प्रष्न केन्द्रीय मृदा एवं जल संरक्षण अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान (CSW CRTI) स्थित है:-
उत्तर देहरादुन (उत्तराचंल) में।

प्रष्न सूर्य से आने वाली घातक पैरा बैंगनी किरणों को अवशोषित करने वाली गैस:-
उत्तर O3

प्रष्न केन्द्रीय मृदा लवणीयता अनुसंधान संस्थान CSSRI है:-
उत्तर कर्नाल (हरियाणा) में।

प्रष्न गेहूँ, जौ, बाजरा, ग्वार का कुल:-
उत्तर ग्रेमनी।

प्रष्न राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय बीकानेर किस जलवायु खण्ड में स्थित है(SKRAU)
उत्तर IC में

प्रष्न तारामीरा का वानस्पतिक नाम है:-
उत्तर इरूका सेटाइवा।

प्रष्न जयपुर कौनसे जलवायु खण्ड में स्थित है:-
उत्तर IIIA में



प्रष्न अम्लीयता भूमि में कौनसे पोषक तत्व की कमी होती है:-

उत्तर कैल्शियम, मैग्नीशियम, फाॅस्फोरस की।

प्रष्न आलू, तम्बाकू इत्यादि कौनसे कुल से सम्बन्धित है:-
उत्तर सोलेनेसी कुल से।

प्रष्न राजस्थान के किस जिले में जल द्वरा मृदा कटाव सबसे अध्ािक होता है:-
उत्तर कोटा।

प्रष्न जलवायु बनी होती है:-
उत्तर प्रकाश एवं तापक्रम, वायु एवं आर्द्रता, वायुदाब एवं वायु दिशा से।

प्रष्न दीर्घ प्रकाशाक्षेपी पादप है:-
उत्तर गेहूँ।

प्रष्न मृदा में कुल कितने रन्ध्रोवकाशों का प्रतिशत होना चाहिये:-
उत्तर 2.5%

प्रष्न अनाजो की रानी है:-
उत्तर मक्का।

प्रष्न सब्जियों की रानी:-
उत्तर भिण्डी।

प्रष्न दलहनों का राजाः-
उत्तर चना।

प्रष्न मसालों की रानी:-
उत्तर इलायची।

प्रष्न सब्जियों का राजा:-
उत्तर बैंगन।

प्रष्न नशे की रानी:-
उत्तर चाय।

प्रष्न मरू फलों का राजा:-
उत्तर बेर।

प्रष्न मक्का में श्वेत कलिका ;व्हाइट बड़द्ध किस तत्व की कमी से होता है:-
उत्तर Zn जिंक की कमी से।

प्रष्न अमोनिया का नाइट्रेट में परिवत्रन कहलाता है:-
उत्तर नाइट्रीकरण।

प्रष्न लेटेराइट भूमि में कौनसा तत्व सर्वाधिक होता है:-
उत्तर लोहा (Fe)



प्रष्न क्षारीय मृदाओं में किस धनायनों के कारण पौधों को फाॅस्फोरस उपलब्ध नहीं होता है:-

उत्तर Ca, Mg

प्रष्न किस फसल को कम पानी की आवश्यकता हेाती है:-
उत्तर कुसुम।

प्रष्न तराई वाली मृदा में उगायी जाने वाली फसल है:-
उत्तर बाजरा।

प्रष्न जलोद मृदा अधिकतर कहाँ पायी जाती है:-
उत्तर गंगा, यमुना के मैदानों में।

प्रष्न गन्ने का उत्पत्ति स्थान है:-
उत्तर भारत।

प्रष्न बड़े आकार के मृदा कणों का वायु क्षरण किस तरह होता है:-
उत्तर सतह समर्पण द्वारा।

प्रष्न मृदा में नाइट्राइट का नाइट्रेट में बदलना।
उत्तर नाइट्रोबेक्टर कहलाता है।

प्रष्न चूना पत्थर का रूपान्तरित रूप है:-
उत्तर संगमरमर।

प्रष्न C4 पादप है:-
उत्तर गन्ना, बाजरा, मक्का।

प्रष्न वायु क्षरण का रूप है:-
उत्तर उच्छलन, निलम्बन, सतह-सर्पण।

प्रष्न लवणीयता ग्रसित मृदाओं का सुधारने का उर्वरक है:-
उत्तर सोड़ियम नाइट्रेट।

प्रष्न अंधी गुड़ाई की जाती है:-
उत्तर गन्ने में/आलू

प्रष्न कार्बनिक उर्वरक है:-
उत्तर यूरिया, कैल्शियम सायनेमाइड़। NH2 CONH2, C ≡ N

प्रष्न आलू का उत्पत्ति स्थान:-
उत्तर उत्तरी अमेरिका, कनाड़ा, ब्राजिल एवं पेरू।

प्रष्न पर्णहरित निर्माण में कौनसे तत्व आवश्यक है:-
उत्तर Fe, Mg

प्रष्न विज्ञान की वह शाखा जिसमें मूलभूत मृदा का अध्ययन किया जाता है:-
उत्तर पेड़ोलोजी।

प्रष्न अम्लीय मृदाये सर्वाधिक उपयुक्त है:-
उत्तर गेहूँ-मक्का, चना-अरहर, चावल न्याय के लिये

प्रष्न सीड़ प्लोट टेकनिक का सम्बन्ध है:-
उत्तर आलू से।



प्रष्न पौधे किस रंग के प्रकाश में सर्वाधिक वृद्धि करते है:-

उत्तर लाल।

प्रष्न मृदा आधुनिक कृषि का प्रारम्भ हुआ।
उत्तर 18 वीं सदी में।

प्रष्न राजस्थान में काली चिकनी मृदा वाले क्षेत्र है:-
उत्तर कोटा-उदयपुर।

प्रष्न जिस मृदा का तापमान 6.5 से 7.5 तक हो, कहलाती है:-
उत्तर उदासीन।

प्रष्न मृदा की जैविक, रासायनिक एवं भौतिक शक्ति के योग को कहते है:-
उत्तर मृदा उर्वरता।

प्रष्न आलू में कंद बनते समय उपयुक्त तापमान:-छ
उत्तर 17-20° C

प्रष्न वह विज्ञान जिसमें मृदा का अध्ययन पौधों की वृद्धि के सम्बनध्ण में करते है:-
उत्तर इंडेफालोजी।

प्रष्न पौधे नाइट्रोजन को अध्ािकतर किस रूप में लेते है:-
उत्तर नाइट्रेट के रूप में।

प्रष्न घास के पौधे नाइट्रोजन को किस रूप में ग्रहण करते है:-
उत्तर अमोनियमा के रूप में।

प्रष्न pH किसने दियाः-
उत्तर सोरेसन ने।

प्रष्न ऐमाइड़धारी उर्वरक है:-
उत्तर यूरिया, Ca सायनेमाइड।

प्रष्न प्राथमिक पोषक तत्व है:-
उत्तर NPk

प्रष्न पर्णहरित का मुख्य अवयव।
उत्तर Mg

प्रष्न आलू के लिए उपयुक्त भूमि।
उत्तर बलुई, दोमट।

प्रष्न सर्वाधिक उर्वरक मृदा।
उत्तर बलुई।

प्रष्न उच्छलन करने वलो मृदा कणों व्यास:-
उत्तर 0.1-0.5 mm



प्रष्न परतीय मृदा है:-

उत्तर क्षारीय।

प्रष्न 1 kg शुष्क पदार्थ उत्पादन के लिये कितने जल की आवश्यकता होती है:-
उत्तर 400-500 Lit

प्रष्न CAN में नाइट्रोजन की आवश्यकता होती है:-
उत्तर 26%/25%

प्रष्न बाजरा की जलमांग:-
उत्तर 45-60 cm

प्रष्न तम्बाकू की पौध कितने दिन में रोपाई योग्य हो जाती है:-
उत्तर 40-50 दिन बाद।

प्रष्न धान की जलमांग होती है:-
उत्तर 120-160 cm/130-160 cm.

प्रष्न सिंचाई जल में कितने प्रतिशत लवणों से अधिक सान्द्रता हानिकारक होती है:-
उत्तर 0.025 – 0.1

प्रष्न पौधों के जड़ विकास में सहायक है:-
उत्तर फाॅस्फोरस।
प्रष्न फसलों में रेाग प्रतिरोधकता करने वाला पोषक तत्व है:-
उत्तर K+
प्रष्न सिंगल सुपर फाॅस्फेट में गंधक की मात्रा होती है:-
उत्तर 12% (SSP)
प्रष्न अमेरिकन कपास की बीजदर:-
उत्तर 15-20 kg.
प्रष्न किस पोषक तत्व की कमी के लक्षण पौधेां की नई कोपलों में दिखाई देते है:-
उत्तर Ca
प्रष्न सिंगल सुपर फाॅस्फेट में फाॅस्फोरस।
उत्तर 16%
प्रष्न कपास का मुख्य कीट:-
उत्तर गुलाबी सुड़ी (Pink Bollowrm)
प्रष्न सनई का उत्पत्ति स्थल है:-
उत्तर ब्राजील।
प्रष्न किस पोषक तत्व की कमी के कारण पौधों की नई पत्तियों में अन्तर्राष्ट्रीय हरिमाहीनता हो जाती हैः-
उत्तर लोहा।
प्रष्न कौनसी खाद पूर्ण खाद है:-
उत्तर गोबर की खादं
प्रष्न हरी खाद के लिये सनई की बीजदर किग्रा/है. में है:-
उत्तर 90-100 kg/hac.
प्रष्न हरी खाद के लिये सर्वोत्तम फसले है:-
उत्तर सनई, ढैंचा।
प्रष्न धान्य फसलों में पशुधार रोग किस पोषक तत्व की कमी से होता है:-
उत्तर ताम्बा Cu
प्रष्न जैविक खादों में मुख्यतया कौनसा तत्व पाया जाता है:-
उत्तर N



प्रष्न दश्ेा का सबसे अधिक चावल किस राज्य में होता है:-
उत्तर पश्चिमी बंगाल में।
प्रष्न B12 के निर्माण में सहायक तत्व है:-
उत्तर CC (कोबाल्ट)
प्रष्न गेहूँ का सर्वाधिक उत्पादन किस राज्य मे होता है:-
उत्तर U.P. में।
प्रष्न चुकन्दर के लिये लाभदायक पोषक तत्व है:-
उत्तर Na
प्रष्न बीज बोने के लिये सर्वोत्तम यंत्र है:-
उत्तर सीड़ ड्रील।
प्रष्न किस खली में सर्वाािध्क Nitrozen पपायी जाती है:-
उत्तर मूंगफली की खली में (5-6%)
प्रष्न महुआ की खल में पाया जाने वाला तत्व:-
उत्तर सेपोनीन।
प्रष्न मछली का चूरा है:-
उत्तर सान्द्रित खाद।
प्रष्न गोबर की खाद में N है:-
उत्तर 0.5%
प्रष्न मूंगफली का सर्वाधिक उत्पादन किस राज्य में होता है:-
उत्तर गुजरात में।
प्रष्न पोटेशियम सल्फेट में कितना प्रतिशत पोटाश पाया जाता है:-
उत्तर 50%/MOP -60%/50P-50%
प्रष्न स्थायी ग्लानी बिन्दु कितने दबाव पर होती है:-
उत्तर 15ATM
प्रष्न आलू की जलमांग:-
उत्तर 40-60 cm
प्रष्न किस देश में बूंद-बूंद सिंचाई का आविष्कार हुआ:-
उत्तर इजरायल।
प्रष्न कौनसा पोषक तत्व पौधों के लिये आवश्यक नहीं है:-
उत्तर Na सोड़ियम- क्षारीय मृदाओं में अधिक पाया जाता है।
प्रष्न ऐसे उर्वरक जिनमें केवल एक ही प्राथमिक पोषक तत्व विद्यमान हो कहलाते है:-
उत्तर एकल।
प्रष्न सर्वाधिक सरसों उत्पादित करने वाला राज्य:-
उत्तर राजस्थान।
प्रष्न उर्वरक में उपस्थित NPK की प्रतिशत मात्रा कहलाती है:-
उत्तर उर्वरक ग्रेडद्व उर्वरक महानता।
प्रष्न गन्ने का उत्पादन सर्वाधिक किस राज्य में होता है:-
उत्तर U.P.
प्रष्न ट्रिपल सुपर फाॅस्फेट में फाॅस्फोरस की मात्रा:-
उत्तर 48%



प्रष्न पौधे फाॅस्फोरस में सर्वाधिपक किस रूप में ग्रहण करते है:-
उत्तर H2 PO4
प्रष्न किस उर्वर में N की सर्वाधिक मात्रा होती है:-
उत्तर एनहाइड्स (निर्जल) अमोनिया में।
प्रष्न कपास का सर्वाधिक उत्पादन:-
उत्तर महाराष्ट्र।
प्रष्न सिंचाई जल के साथ उर्वरक देना कहलाता है:-
उत्तर हर्टीगेशन।
प्रष्न पौधे का कितना प्रतिशत भाग CHO का बना होता है:-
उत्तर 95%
प्रष्न कौनसा खाद मृदा में सर्वाधिक छपजतवहमद का स्थरीकरण करती है:-
उत्तर सैंजी।
प्रष्न किस फसल में उर्वरकों का पंक्ति व्यापन करते है:-
प्रष्न सोड़ियम नाइट्रेट से N है:-
उत्तर 16%
प्रष्न क्षेत्र क्षमता व स्थायी क्लानी बिन्दू के मध्य स्थित जल को कहते है:-
उत्तर प्राप्य रूप।
प्रष्न भूमि को समतल करने का यंत्र है:-
उत्तर पटेला, बेलन, स्प्रेअकर।
प्रष्न ग्वार में गोंद प्रतिशत होता है:-
उत्तर 30%
प्रष्न हल का कौनसा भाग मिट्टी चिरने के काम आता है:-
उत्तर फार/कठोर मिट्टी तोड़ने के लिये चिजलर हल काम में लेते है।
प्रष्न बरसीम की बुवाई कब करते है:-
उत्तर अक्टूबर में।
प्रष्न राजस्थान में भारत के कुल सतही जल स्त्रोतों का कितने प्रतिशत है:-
उत्तर 2%
प्रष्न हरी खाद, कम्पोस्ट व गोबर की खाद कौनसी खाद हे:-
उत्तर भारी कार्बनिक खादें।
प्रष्न चारे के लिये बाजरे की बीज दर:-
उत्तर 8-10 kg/hac.
प्रष्न फूलगोभी में ब्राउंनिंग किस तत्व की कमी से होता है:-
उत्तर B
प्रष्न सदैव क्षति पहुँचाने वाले खरपतवारों को कहते है:-
उत्तर निरपेक्ष।
प्रष्न भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान कहा है:-
उत्तर लखनऊ में (U.P.)
प्रष्न जौ की लवणीयता रोधी किस्म है:-
उत्तर B.L.-2
प्रष्न समय पर, देरी से बुवाई व लवणीय-क्षारीय मिट्टी तीनों परिस्थितियों के लिये उपयुक्त किस्म है:-
उत्तर राज 3077
प्रष्न काॅपर की कमी से नीम्बू वर्गीय फलों में कौनसी बीमारी हो जाती है:-
उत्तर डाइबेक।



Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content