0%
5

All The Best


Created on

Physics

CURRENT ELECTRICITY

CURRENT ELECTRICITY TEST - 08

1 / 20

A potentiometer wire of length L and resistance r is connected in series with a battery of e.m.f. E0 and a resistance r1. An unknown e.m.f. E is balanced at a length \l of the potentiometer wire. The e.m.f. E will be given by :
L लम्बाई के एक विभवमापी तार का प्रतिरोध r को, श्रेणी क्रम में Eo ई.एम.एफ. की एक बैटरी तथा प्रतिरोध r1 से जोड़ा गया है। इस विभवमापी की \l लम्बाई पर, किसी अज्ञात ई.एम.एफ. E के लिये संतुलन बिन्दु प्राप्त होता है। तो, E का मान है

2 / 20

The potential difference (VA – VB) between the points A and B in the given figure is :-
दर्शाये गये आरेख में बिन्दुओं A तथा B के बीच विभवान्तर (VA - VB) होगा :

3 / 20

If E = 6V, r = 2Ω then maximum power dissipated through R is :-
यदि E=6V, r=2 Ω तो प्रतिरोध R से अधिकतम क्षय शक्ति का मान होगा :

4 / 20

A carbon resistor (47 ± 4.7) kW is to be marked with rings of different colours for its identification. The colour code sequence will be :-
(47± 4.7) k2 प्रतिरोध के किसी कार्बन-प्रतिरोधक पर, पहचान के लिए, विभिन्न वर्णों के वलय अंकित किए जाने हैं। वर्ण कोड का क्रम होगा

5 / 20

A filament bulb (500 W, 100 V) is to be used in a 230 V main supply. When a resistance R is connected in series, it works perfectly and the bulb consumes 500 W. The value of R is :-
एक फिलामेंट (तन्तु) बल्ब (500W, 100V) 230 V की मेन सप्लाई में प्रयुक्त किया जाना है। इसके श्रेणीक्रम में R प्रतिरोध जोड़ने पर यह बल्ब पूर्णतः ठीक कार्य करता है तथा 500W शक्ति लेता है। R का मान है

6 / 20

A potentiometer is an accurate and versatile device to make electrical measurements of E.M.F. because the method involves :-
विद्युत वाहक बल की वैद्युत माप के लिये विभवमापी एक यथार्थ बहुमुखी युक्ति है, क्योंकि, इस विधि में शामिल होता है

7 / 20

The resistance of a wire is 'R' ohm. If it is melted and stretched to 'n' times its original length, its new resistance will be :-
किसी तार का प्रतिरोध 'R' ओम है। इस तार को पिचलाया जाता है और फिर खींचकर मूल तार से 'n' गुना लम्बाई का एक तार बना दिया जाता है। इस नये तार का प्रतिरोध होगा:

8 / 20

Find out potential difference between point A and B.
बिन्दु A और B के बीच विभवान्तर का मान होगा :

9 / 20

A, B and C are voltmeters of resistance R, 1.5 R and 3R respectively as shown in the figure. When some potential difference is applied between X and Y, the voltmeter readings are VA, VB and VC respectively. Then :
यहाँ आरेख में तीन वोल्टमीटरों A, B तथा C के प्रतिरोध क्रमश: R, 1.5 R तथा 3R है। X तथा Y के बीच कुछ विभवान्तर आरोपित करने से, इन वोल्टमीटरों के पठन (रोडिंग) क्रमश: VA, VB तथा VC है | तो :

10 / 20

Find the value of I ?
I का मान होगा :

11 / 20

If R1 = 6W, R2 = 4Ω, R3 = 2Ω then find current in R3.
यदि R1= 62, R2 = 4Ω, R3= 2Ω तो R3 में धारा ज्ञात करें

12 / 20

A circuit contains an ammeter, a battery of 30 V and a resistance 40.8 ohm all connected in series. If the ammeter has a coil of resistance 480 ohm and a shunt of 20 ohm, the reading in the ammeter will be :-
किसी परिपथ में, 30V की एक बैटरी, 40.8 ओम का एक प्रतिरोध तथा एक अमीटर, सभी श्रेणी क्रम में जुड़े हैं। यदि अमीटर की कुंडली का प्रतिरोध 4802 है का प्रतिरोध 20 2 है

13 / 20

Two metal wires of identical dimensions are connected in series. If σ1 and σ2 are the conductivities of the metal wires respectively, the effective conductivity of the combination is :-
सर्वसम विस्तार (माप) के धातु के दो तार श्रेणी क्रम में जुड़े हैं। यदि इन तारों की चालकता क्रमशः σ1 तथा σ2 है इस संयोजन की चालकता होगी

14 / 20

The value of effective resistance between A and B is ? (R = 2 kΩ)
विन्दु A तथा B के मध्य प्रभावी प्रतिरोध होगा (R = 2kΩ)

15 / 20

The equivalent resistance between A and H of cube if resistance of each side is 1 kΩ
यदि घन की प्रत्येक भुजा का प्रतिरोध 1 kΩहै त A एवं H के मध्य प्रभावी प्रतिरोध होगा

16 / 20

A potentiometer is an accurate and versatile device to make electrical measurements of E.M.F. because the method involves :-
विद्युत वाहक बल की वैद्युत माप के लिये विभवमापी एक यथार्थ बहुमुखी युक्ति है, क्योंकि, इस विधि में शामिल होता है

17 / 20

Across a metallic conductor of non-uniform cross section a constant potential difference is applied. The quantity which remains constant along the conductor is :
असमान परिच्छेद (मोटाई) के धातु के किसी चालक के दो सिरों के बीच एक स्थिर विभवान्तर आरोपित किया जाता है। इस चालक के अनुदिश जो राशि अपरिवर्तित रहेगी वह है:

18 / 20

A galvanometer works as 1 V full scale voltmeter when connected in series with resistance of 2kΩ and as 500 mA ammeter when connected in parallel with a resistance of 0.2Ω. Find internal resistance of galvanometer.
एक धारामापी के श्रेणीक्रम में 2kΩ प्रतिरोध जोड़ते है तो इसका पूर्ण विक्षेप विभव 1V है 0.2Ω प्रतिरोध जोड़ते हैं तब इसकी पूर्ण स्केल विक्षेप धारा 500mA है।

19 / 20

Find the value of emf (ε) when Ammeter reads 3 A current flowing through it.
जब अमीटर में 3A धारा प्रवाहित होती है तब विद्युत वाहक बल (ε) का मान होगा

20 / 20

A potentiometer wire is 100 cm long and a constant potential difference is maintained across it. Two cells are connected in series first to support one another and then in opposite direction. The balance points are obtained at 50 cm and 10 cm from the positive end of the wire in the two cases. The ratio of emf's is :-
किसी विभवमापी के तार की लम्बाई 100 से.मी. है तथा इसके सिरों के बीच कोई नियत विभवांतर बनाए रखा गया है। दो सेलों को श्रेणीक्रम में पहले एक दूसरे की सहायता करते हुए और फिर एक दूसरे की विपरीत दिशाओं में संयोजित किया गया है। इन दोनो प्रकरणों में शून्य-विक्षेप स्थिति तार के धनात्मक सिरे से 50 से.मी. और 10 से.मी. दूरी पर प्राप्त होती है। दोनों सेलों की emf का अनुपात है:

Your score is

The average score is 12%

0%




Welcome to the online physics test series for the NEET & JEE entrance exam. On this page you can find chapter wise physics mock tests for the NEET & JEE  exam. Practicing physics questions is very important as it helps in clear the concepts over a period of time. With these NEET & JEE physics questions, you can get a boost in your confidence when it comes to problem-solving in physics.

  • The test is of 20-minutes duration and it contains 20 Questions.
  • Practicing such tests would give you added confidence while attempting your exam.
  • Why wait to take the test and get an instant evaluation.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *