JET ICAR Agronomy Questions Part-2

प्रष्न 151. मैथी, रिजका, सैंजी में जैव उर्वरक में उपयुक्त राइजोबियम प्रजाति कौनसी है:-

उत्तर राइजोबियम मेलीलोटी।

प्रष्न 152. अरहर में उखटा रोग का रोगकारक है:-

उत्तर फ्यूजेरियम कवक।

प्रष्न 153. मोठ से दाने व सूखे चारे की उपज क्रमशः प्राप्त होती है:-

उत्तर 3-5 क्वि. व 5-8 क्वि./hac. 3

प्रष्न 154. बीजोपचार का सही क्रम है:-

उत्तर FIR (फफुूॅदीनाषक, कीटनाषक, राइजोबियम)

प्रष्न 155. अरहर की उन्न कृषि से प्रति है. कितनी उपज प्राप्त होती है:-

उत्तर 15.30 क्वि.

प्रष्न 156. एक हैक्टर में काम आने वलो बीजों को उपचारित करने हेतु 250-300 ग्राम गुड में कितने पैकट कल्चर मिलाते है:-

उत्तर तीन।




प्रष्न 157. किस फसल की दाल को घोड़ा दाल भी कहते है:-

उत्तर चना।

प्रष्न 158. माइकोराइजा है:-

उत्तर विकसित पौधों की जड़ों में कवक।

प्रष्न 159. काबुली चना का वानस्पतिक नाम क्या है:-

उत्तर साइसर काबुलीयम।

प्रष्न 160. माइकोराइजा लगातार मृदा से कौनसा तत्व अवशोषित करता रहता है:-

उत्तर फाॅस्फोरस।

प्रष्न 161. देशी चना (साइसर एरेटिनम) व काबुली चना (साइसर काबुलिकम) में गुण सुत्रों की संख्या होती है

उत्तर 2n=14 व 2n = 16

प्रष्न किस फसल के लिये ढेला युक्त मृदा उपयुक्त है:-

उत्तर चना।

प्रष्न 162. मसूर व मटर में उपयुक्त राइजोबियम प्रजाति है:-

उत्तर राइजोबियम लेग्यूमिनोसेरम।

प्रष्न 163. कल्चर से मृदा उपचार करते समय कल्चर की कितनी मात्रा को 50ाह छनी की खाद में मिलाकर बुवाई से पूर्व नम खेत में छिड़क देते है:-

उत्तर 3kg

प्रष्न 164. L550, 144, C104, K-4 किस्मे है:-

उत्तर काबुली, चना।

प्रष्न 165. चने की बीजदर कितनी रखते है:-

उत्तर 70-80 kg/ है काबुली चना 80-90 kg/ है

प्रष्न 166. मूंगफली, मूंग, उड़द, अरहर के लिये उपयुक्त राइजोबियम प्रजाति है:-

उत्तर राइजोबियम स्पीशीज।



प्रष्न 167. असिंचित क्षेत्रों में चने की बुवाई का उपयुक्त समय हैः-

उत्तर अक्टूबर का प्रथम सप्ताह।

प्रष्न 168. ऐसी कौनसी फसल है, जो तिलहनी व दलहनी फसल है:-

उत्तर सोयाबीन।

प्रष्न 169. नील हरित शैवाल कितने ाह नाइट्रोजन का योगिकीकरण करता है:-

उत्तर 25-30 kg

प्रष्न 170. पौधोपचार हेतु बाल्टी में 10 लीटर पानी लेकर उसमें कितने पैकट कल्चर के मिलाते है:-

उत्तर 4-5 पैकट।

प्रष्न 171. सर्वाधिक प्रोटीन किसमें होती है:-

उत्तर सोयाबीन।

प्रष्न 172. सोयाबीन में किते प्रतिषत प्रोटीन होती है:-

उत्तर 40-42

प्रष्न 173. नील हरित शैवाल का प्रयोग धान की रोपाई के कितने दिन बाद करते है:-

उत्तर 7 दिन बाद।

प्रष्न 174. सोयाबीन का वानस्पिक नाम है:-

उत्तर ग्लाइसिन मेक्स।




प्रष्न 175. नील हरित शैवाल कितनी मात्रा खेत में डालते है:-

उत्तर 40-42 किलोंग्राम

प्रष्न 176. दूध, दही मक्खन बना सकते है:-

उत्तर सोयाबीन

प्रष्न 177. सोयाबीन में तेल की मात्रा कितनी होती है:-

उत्तर 20%

प्रष्न 178. भारत के किस राज्य में सर्वाधिक सोयाबीन का उत्पादन होता है:-

उत्तर M.P.

प्रष्न 179. निम्न में से फाॅसफोरस घोलक एक्टिनोमाइसिटिज है:-

उत्तर स्टेप्टोमाइसिन।

प्रष्न 180. राष्ट्रीय सोयाबीन अनुसंधान संस्थान है:-

उत्तर इन्दौर, मध्यप्रदेश।

प्रष्न 181. सोयाबीन का उत्पत्ति स्थल है:-

उत्तर उत्तरी चनी का आधा भाग।

प्रष्न 182. निम्न में से माइकोराइजा है:-

उत्तर VAM(वेसिकुलर अरबोसकुलर माइक्रोराइजा)



प्रष्न सोयाबीन की बीजदर कितनी है:-

उत्तर 80-100 kg/ है (एक gS- में 3 लाख पौधे)

प्रष्न 183. कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की एक बार गति करने में कितना समय लगता है:-

उत्तर 29.5 दिन

प्रष्न 184. गौरव, मोनेटा, J.S. 80-21, P.K. 472, MACS 58, PS-16, JS 335, MACS 450, NITS 93, 05 प्रताप सोया-1, RAUS-5,

RAUS 81 इत्यादि किस्मे है।

उत्तर सोयाबीन।

प्रष्न 185. पूर्णिमा के समय चन्द्रमा का सर्वाधिक आकर्षण किस ओर होता है:-

उत्तर जल तत्व की ओर।

प्रष्न 186. प्रकाशअवधि के आधार पर सोयाबीन है:-

उत्तर अल्प प्रकाश क्षेपी पादप।

प्रष्न 187. बीजों की कब बुवाई करने पर अंकुरण में वृद्धि होती है और पौधे रोगी होते है:-

उत्तर चन्द्र उत्तरायण (48 घंटे पूर्व-पूर्णिमा)

प्रष्न 189. सोयाबीन की सफल खेती हेतु उपयुक्त जलवायु है:-

उत्तर नम तथा गर्म।

प्रष्न 190. किस समय अधिक आर्द्रता होने के कारण फफूंद एवं अन्य सूक्ष्म जीवाणुओं का प्रकोप अध्ािक होता है। अतः फसल की इस समय कटाई नहीं चाहिये:-

उत्तर पूर्णिमा के समय।

प्रष्न 191. फसल कटाई का सर्वोत्तम समय है:-

उत्तर अमावस्या।




प्रष्न 192. कितने समय में चन्द्रमा एक बार उत्तरायण व एक बार दक्षिणायन की गति करता है:-

उत्तर 27.3 दिन।

प्रष्न 193. सोयाबीन की फसल से सिंचित और असिंचित क्षेत्र से उपज/हैक्टर क्रमशः प्राप्त होती है:-

उत्तर 10-15 क्वि. व 25-30 क्वि./हैक्टर।

प्रष्न 194. किस अवस्था में पत्तीदार फसलों की कटाई, फलों की तुड़ाई, कलम लगाना तथा चारे की कटाई की जाती है:-

उत्तर चन्द्र उत्तरायण पक्ष।

प्रष्न 195. जहाँ सिचाई की उत्तम सुविधा हो वहां सोयाबीन की बुवाई का उपयुक्त समय कौनसा है:-

उत्तर 15 जून से 30 जून।

प्रष्न 196. किस अवस्था में पृथ्वी की ऊपरी सतह पर क्रियाशीलता में बढ़ोतरी होती हे:-

उत्तर चन्द्र उत्तरायण पक्ष।

प्रष्न 197. किस अवस्था में पृथ्वी की ऊपरी सतह पर क्रियाशीलता में बढ़ोतरी होती है:-

उत्तर चन्द्र उत्तरायण पक्ष।

प्रष्न 198. किस अवस्था में पृथ्वी की नीचली सतह पर क्रियाशीलता में बढ़ोतरी होती है:-

उत्तर चन्द्र दक्षिणायन पक्ष।

प्रष्न 199. सोयाबीन में पंक्ति से पंक्ति व पौधे से पौधे की दूरी कितनी रखते है।

उत्तर 30-40 सेमी. व 10-15 सेमी.।

प्रष्न 200. चन्द्र दक्षिणायन में होने पर कौनसी फसलों की गुणवत्ता व उत्पादन में वृद्धि होती है:-

उत्तर कन्द फसलें जैसे – अश्वगंधा, सफेद मूसली आदि।

प्रष्न 201. मूँगफली का वानस्पतिक नाम क्या है:-

उत्तर ऐराकिस हाइपोजिया।

प्रष्न 202. हरी खाद बनाना, कम्पोस्ट बनाना, सींग की खाद बनाना, निकालना, खेत में डालना, पलटना आदि क्रियायें की जाती है:-

उत्तर चन्द्र दक्षिणायन पक्ष में।



प्रष्न 203. सोयाबीन और मूंगफली किस कुल से सम्बन्धित है:-

उत्तर लेग्यूमिनेसी।

प्रष्न 204. जब चन्द्रमा पृथ्वी के अति दूर व अति पास हो तो स्थिति क्रमशः कहलाती है:-

उत्तर अपभू (Apogee) व उपभू (Perigee)

प्रष्न 205. राष्ट्रीय मूँगफली अनुसंधान केन्द्र कहाँ स्थित है:-

उत्तर जूनागढ़, (गुजरात)।

प्रष्न 206. भारत में सर्वाधिक क्षेत्रफल एवं उत्पादन वाली तिलहनी फसल है:-

उत्तर मूंगफली।

प्रष्न 207. मूँगफली के दानेां में तेल की मात्रा होती है:-

उत्तर 47-52%

प्रष्न 208. मूंगफली के दानों मं प्रोटीन व कार्बोहाइड्रेट की मात्रा क्रमशः होती है:-

उत्तर 20% व 10%

प्रष्न 209. निम्न में से कौक्सीनेला स्चीशीज किसका मिश्रण करता है:-

उत्तर माहू।

प्रष्न 210. अधिकांश विद्वानों के अनुसार मूंगफली की उत्पत्ति मानी जाती है:-

उत्तर ब्राजील।

प्रष्न 211. भारत के किस राज्य में मूंगफली का उत्पादन सर्वाधिक होता है:-

उत्तर गुजरात।

प्रष्न 212. गन्ने के पाइरिल्ला कीट के प्रभावी नियंत्रण हेतु उपयोग किया जाने वाला परजीवी कीट है:-

उत्तर इपोकार्पिया।

प्रष्न 213. मूंगफली की फसल हेतु उपयुक्त जलवायु है:-

उत्तर उष्ण कटिबन्धीय जलवायु ;लम्बा व गर्म मौसमद्ध

प्रष्न 214. भारत में कितने प्रतिशत दाने (मूंगफली) तेल निकालने के काम में लिया जाता है:-

उत्तर 81%




प्रष्न 215. ऐसी फफूंद जो कीट नियंत्रण हेतु उपायोगी है

उत्तर ट्राइकोडर्मा।

प्रष्न 216. मूंगफली की वानस्पतिक वृद्धि एवं प्रजनन हेतु उपयुक्त तापमान।

उत्तर 27-30° C तथा 24-27°C

प्रष्न 217. परभक्षी कीट फ्राइसोपिड्स की कितनी सूड़ियाँ फसलो व छालदार वृक्षों में छोड़ते है:-

उत्तर 50000 व 10.20

प्रष्न 218. RS-1, M-13 MA 0 चित्राद्धए चन्द्रा,HNG-10, RSB-8%, RS-138, RG 141, 1-24, एक के 12-24, एक के 12-24, 5.8-11, GG-2,, JL 38, TAG-24 इत्यादि किस्मे है।

उत्तर मूंगफली।

प्रष्न 219. निम्न में से कीटों को मारने में सक्षम विषाणु है:-

उत्तर NPU (ii) G.U.

प्रष्न 220. मूंगफली की छूमका किस्मों की बुवाई हेतु बीजदर है:-

उत्तर 100 kg गुल्ली/हैक्टर

प्रष्न 221. कीट नियंत्रण हेतु जीवाणु है:-

उत्तर B.T.

प्रष्न 222. बीजोपचार हेतु कितना ट्राइकोडर्मा प्रति किग्रा. बीज की दर से उपचार करते है:-

उत्तर 6-8

प्रष्न 223. तम्बाकू में पाया जाने वाला कौनसा अवयव कीटनाशी का कार्य करता है:-

उत्तर निकोटिन।

प्रष्न 224. मूंगफली की फैलने वाली किस्मों के लिये बीजदर कितनी रखते है:-

उत्तर 60-80 kg

प्रष्न 225. क्राइसेथेेमम में पाया जाने वाला कीटनाशी कौनसा है:-

उत्तर पाइरेंथ्रम।

प्रष्न 226. फैलने वाली मूंगफली की किस्मों में पंक्ति से पंक्ति व पोधे से पौधे के बीच की दूरी कितनी रखते है।

उत्तर 40-45 cm व 15 सेमी.




प्रष्न 227. निम्न में से किस जाति का प्रोटोजोआ टिड्डी के नियंत्रण हेतु उपचार में किया जाता है:-

उत्तर नोऐमा।

प्रष्न 228. मूंगफली की गुच्छेदार किस्मों में कतार से कतार व P×P दूरी:-

उत्तर 30× 10 सेमी

प्रष्न 229. कीटों को मारने हेतु किस जाति के सूत्रकृमि उपयुक्त है:-

उत्तर स्टेर्ननिमेटिड़ी।

प्रष्न 230. सफेद लट किस फसल का प्रमुख शत्रु है:-

उत्तर मूंगफली।

प्रष्न 231. ट्राइकोग्रामा के एक कार्ड पर कितने कीट होते है:-

उत्तर 16000-20000

प्रष्न 232. Pagging (अधिकिलन) की जाती है:-

उत्तर मूंगफली।

प्रष्न 233. टिक्का रोग किस फसल में होता है:-

उत्तर मूंगफली।

प्रष्न 234. टिक्का रोग का रोकारक है:-

उत्तर फ्यूजेआरेपीप्योसिस परसोनेटा नामक कवक या सर्कोस्पोरा ऐरेचिप।

प्रष्न 235. लहसुन के कितने प्रतिशत घोल के छिड़काव से फसलों में चूषक कीटों का नियंत्रण किया जा सकता है:-

उत्तर 2%

प्रष्न 236. मूंगफली की फसल में पीलिया होने पर नियंत्रण हेतु प्रति है. डालते है:-

उत्तर 250 kg गंधक अथवा हरा कसीस।

प्रष्न 237. मूंगफली की गुच्छेदार व फैलने वाली किस्मों से उपज प्राप्त होती है:-

उत्तर 10-12 क्वि./है.

प्रष्न 238. निम्न में से किस खली का उपयोग भूमिगत कीटों के अन्तर्गत किया जाता है:-

उत्तर करंज।

प्रष्न 239. सिंचित क्षेत्रों में मूंगफली की उपज प्राप्त हो जाती है:-

उत्तर 30 क्वि./है
.



प्रष्न 240. मूंगफली में फलियों के अलावा कितना सूखा चारा भी प्राप्त हो जाता है:-

उत्तर 15-30 क्वि./हैक्टर

प्रष्न 241. तिल का वानस्पतिक नाम क्या है।

उत्तर सिसेमम इण्डिकम।

प्रष्न 242. सार्वधिक जल मांग किल फसलों की होती है:-

उत्तर धान, गन्ना।

प्रष्न 243. तिल का कुल कौनसा है:-

उत्तर पेड़ालिएसी।

प्रष्न 244. सिंचाई की किस विधि में सर्वाधिक जल की हानि होती है:-

उत्तर प्रवाह विधि (Flood System)

प्रष्न 245. गरीब का घी कहलाता है:-

उत्तर तिल का तेल।

प्रष्न 246. फव्वारा विधि में क्यारी विधि की तुलना मं कितनी प्रतिश पानी बचत होती है:-

उत्तर 35%

प्रष्न 247. तिलहनी फसलों की रानी है:-

उत्तर तिल।

प्रष्न 248. निम्न में से किस प्रकार की मृदा को अधिक जलमांग की आवश्यकता होगी:-

उत्तर हल्की बलुई मृदा।

प्रष्न 249. तिल में किस पदार्थ के कारण इसे अधिक समय तक सुरक्षित रख सकते है:-

उत्तर सीसेमाोल।

प्रष्न 250. कार्बनिक पदार्थो की उपस्थिति में मृदा की:-

उत्तर जल अवशोषण क्षमता बढ़ जाती है व जलमांग कम हो जाती है।

प्रष्न 251. तिल के बीजों में कितना प्रतिशत तेल होता है:-

उत्तर 44-54%




प्रष्न 252. एक इकाई शुष्क पदार्थ उत्पन्न करने हेतु पौधों द्वारा जितना जल वाष्प की क्रिया में निकाला जाता है, कहलाता है:-

उत्तर वाष्पोत्सर्जन अनुपात।

प्रष्न 253. अध्ािकांश वैज्ञानिकों के अनुसार तिल का उत्पत्ति स्थानः-

उत्तर अफ्रीका (कुछ के अनुसार हिमालय का कोई स्थान)

प्रष्न 254. निम्न में से अध्ाि कतापावशोषण करने वाली मृदा है।

उत्तर काली मृदा।

प्रष्न 255. विश्व में तिल के क्षेत्रफल व उत्पादन में भारत का स्थान है:-

उत्तर प्रथम।

प्रष्न 256. भारत के किस राज्य में सर्वाधिक तिल का उत्पादन होता है:-

उत्तर राजस्थान।

प्रष्न 257. पत्तियों का तापमान अथवा फसल सतह का तापक्रम किसकी सहायता से नापा जाता है:-

उत्तर इन्फ्रारेड थर्मामीटर।

प्रष्न 258. तिल की फसल हेतु उपयुक्त जलवायु है:-

उत्तर उष्ण कटिबन्धीय जलवायु।

प्रष्न 259. मृदा जजल की उपरी व नीचली सीमा है:-

उत्तर क्षेत्र क्षमता व स्थायी क्लानि बिन्दू।

प्रष्न 260. तिल की खेती हेतु उपयुक्त तापक्रम।

उत्तर

25°- 27° C

 

प्रष्न 261. पौधों को उपलब्ध जल की परास है:-

उत्तर क्षेत्र क्षमता ( 1/3 ATM) से स्थायी ग्लानि बिन्दू (15 ATM) के बीच।

प्रष्न 262. तिल की शाखा रहित किस्में जैसे-प्रताप हेतु बीजदर रखते है:-

उत्तर 5kg/ Hac.




प्रष्न 263. तिल की शाखायुक्त किस्में जैसे ज्ब्.25 की बुवाई हेतु बीजदर है:-

उत्तर 2-2 ½/kg

प्रष्न पौधों को किस अवस्था पर 100 प्रतिशत जल उपलब्ध होता है:-

उत्तर क्षेत्र क्षमता ( 1/3 ATM)

प्रष्न 264. तिल की बुवाई के समय (पंक्ति से पंक्ति व पौधे से पौधे की) दूरी रखते है:-

उत्तर 30 cm व 10-15 cm

प्रष्न 265. तम्बाकू के लिये ब्त्प् है:-

उत्तर जुटाई के समय।

प्रष्न 266. गेहूँ में कितनी औसतन सिंचाई करनी चाहिये:-

उत्तर N%A

प्रष्न 267. तिल के दाने की उपज/ींबण् प्राप्त होती है:-

उत्तर 3-6 क्वि/hac.

प्रष्न धान की जलमांग हे:-

उत्तर 90-250 cm या 900-2500 mm.

प्रष्न 268. राष्ट्रीय सरसों अनुसंधान केन्द्र स्थित है:-

उत्तर सेवर, भरतपुर।

प्रष्न 269. इण्डियन मस्टर्ड का वा. नाम है:-

उत्तर ब्रेसिका जुन्सिया।

प्रष्न सरसों का कुल है:-

उत्तर कुर्सीफेरी।

प्रष्न 270. यदि गेहूँ की फसल हेतु केवल दो सिंचाई उपलब्ध हो तो कब करना चाहिये:-

उत्तर CRI व दानों में दूध भरते समय।

प्रष्न 271. राजस्थन की प्रमुख तिलहनी फसल है:-

उत्तर सरसो




प्रष्न 272. सरसों के तेल में तीव्र गंध किस एल्केलाॅयड़ के कारण होती है:-

उत्तर सिनिग्रिन।

प्रष्न गन्ना की जलमांग कितनी है:-

उत्तर 150-250cm या 1500-2500 mm

प्रष्न 273. वेवीलोन के अनुसार सरसों का उत्पत्ति स्थल है:-

उत्तर चीन, भारत या दक्षिणी पश्चिमी एशिया ;कुछ के अनुसार-‘चीनद्ध

प्रष्न 274. मक्का के नर पुष्प को कहते है:-

उत्तर टेसल।

प्रष्न 275. भारत में सरसों के उत्पादन मे ंप्रथम स्थान है:-

उत्तर राजस्थान

प्रष्न 276. तारामीरा का वा. नाम है:-

उत्तर इरूका सेटाइवा।

प्रष्न 277. मक्का के मादा पुष्प को कहते है:-

उत्तर सिल्क।

प्रष्न 278. पहाड़ी राई का वानस्पतिक नाम क्या है।

उत्तर ब्रेसिका जुन्सिया वैराइटी रूगोसा।

प्रष्न मृदा नमी ज्ञात करने हेतु मृदा के नमूने को ओवन में कितने तापक्रम पर कितने समय रखते है:-

उत्तर 20C पर 48 घंटे।

प्रष्न गेहूँ की जलमांग कितनी है:-

उत्तर 5-65 cm या 450-650 mm

प्रष्न 279. बनारसी राई का वानस्पतिक नाम क्या है:-

उत्तर ब्रेसिका निग्रा

प्रष्न 280. किस फसल में डोड़े वाली शाखा बनते समय, फूल आते समय, डोड़े बनते समय सिंचाई की तीन क्रांतिक अवस्थाये है:-

उत्तर कपास

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content