JET ICAR Horticulture Questions Part-3

प्रष्न अश्वगंधा की विधिवत् की खेती की जाती है।

उत्तर मन्दसौर (मध्यप्रदेश)

प्रष्न अश्वगंधा की ऐसी जड़े जिनकी औसत लम्बाई 5 cm व्यास 0.50 & 9 c.m. जड़ो का बीच का भाग, स्टार्च व एल्कोहल की मात्रा मुनंस हो तो कौनसी ग्रेड होगी:-
उत्तर B

प्रष्न संतरे की पौधे लगाने हेतु गड्डे का आकार व आपसी दूरी:-
उत्तर 90 घन सेमी. 6×6 मी.

प्रष्न नींबू प्रजाति के फलों पर किस वृद्धि नियामक का घोल सितम्बर, में छिड़कर गिरने से प्रष्न फलों को बचाया जा सकता हैः-
उत्तर 2, 4 D

प्रष्न संतरे में कलिकायन द्वारा तैयार पौधे कितने समय देने शुरू हो जाते है:-
उत्तर 3.5 वर्ष

प्रष्न संतरे में प्रायः पुष्पन के कितने समय बाद फल तैयार हो जाते है:-
उत्तर 8.9 माह

प्रष्न अंश्वगंधा की जड़ों का पतला भाग व अंन्तिम या रेशे व स्टार्च कम एल्कोहल की मात्रा अधिक हो तो वह श्रेणी होगी:-
उत्तर C

प्रष्न आम में NAA अिथवा 2, 4D का कितना PPM का घोल में छिड़क कर इसके फलों को बचा सकते है
उत्तर 10-15% PPM

प्रष्न पादप वृद्धि नियामकों को कितने प्रकार में वर्गीकृत किया जाता है:-
उत्तर 5

प्रष्न अश्वगंधा की निम्न श्रेण़ी की जड़े छोटे-छोटे टुकड़ों में श्रेणीकरण की जाती है:-
उत्तर ग्रेड D

प्रष्न कवक व शैवाल में किस अलैंगिक प्रवर्धन से प्रजनन होता है।
उत्तर जीवाणु या स्पोर्स द्वारा।

प्रष्न विकसित पौधे को उसके मातृ पौधे से अलग कर नया पौधा तैयार करने को कहते हैः-
उत्तर विभाजन।

प्रष्न दुब घास व स्ट्राबेरी में प्रवर्धन होता हैः-
उत्तर रनर्स द्वारा।

प्रष्न तुलसी का B.N. है:-
उत्तर ओसिमम सेकन्टम।

प्रष्न साॅस बनाने के लिये उपयुक्त फल:-
उत्तर टमाटर

प्रष्न तैयार साॅस का T.S.S. होता है:-
उत्तर 15-16%

प्रष्न जंगली स्ट्राबेरी में प्रवर्धन सम्भव है:-
उत्तर स्टोलन या भूस्तारी।

प्रष्न साॅस बनाने हेतु टमाटर के फल होने चाहिये:-
उत्तर पूर्ण पके।

प्रष्न जड़ कलम की लम्बाई व मोटाई क्रमशः लेते हैः-
उत्तर 10-15%

प्रष्न टमाटर के साॅस में परिरक्षक पदार्थ:-
उत्तर सोड़ियम बेन्जोएट।

प्रष्न पूर्ण कलम से प्रवर्धन करने हेतु काम में आने वाली पत्तियों पर पायी जाती है:-
उत्तर अपस्थानिक कलिका।

प्रष्न टमाटर का साॅस बनाते समय नमक की मात्रा मिलाते है:-
उत्तर अन्त में।

प्रष्न कैचप किन फलों से तैयार करते है:-
उत्तर टमाटर से।

प्रष्न पूर्ण कलम की अंकुरित कलियों को कहते है:-
उत्तर पत्तीभू्रण।

प्रष्न कलम में अधिक सफलता हेतु उसके निचले भाग (3 सेमी. तक वृद्धि नियंत्रक से उपचारित करना चाहिये)
उत्तर I.B.A. (सेरेडेक्स)

प्रष्न टमाटर के कैचप में T.S.S. होता है:-
उत्तर 25%

प्रष्न कोमल या शाकीय कलम की लम्बाई रखते है:-
उत्तर 10 सेमी.

प्रष्न कोमल या शाकीय कलम में कितने समय बाद जड़े उत्पन्न हो जाती है:-
उत्तर 4-5 दिन में

प्रष्न तना कलम की लम्बाई रखते है:-
उत्तर 20-22.5 सेमी.

प्रष्न पूर्ण परिपक्व तना कलम से जड़े कितने दिन बाद निकलकर तैयार हो जाती है:-
उत्तर 60-70 दिन बाद।

प्रष्न पर्णपाती पौधों की कलम किस ऋतु में लगाते है:-
उत्तर बसंत ऋतु में।

प्रष्न टमाटर के एक किलों गुदों में कितनी चीनी मिलाते है:-
उत्तर 25 gram

प्रष्न कलमों को पौधशाला में लगाने के समय दूरी रखी जाती है:-
उत्तर 30×10 सेमी।

प्रष्न अचार में परिरक्षण हेतु नमक की मात्रा लेते है:-
उत्तर 15-20%

प्रष्न चटनी में र्शकरा की मात्रा होती है:-
उत्तर 70%

प्रष्न तने के अक्ष का आधार तने के भोजन संग्रह के कारण फूलकर बाद में बड़ा हो जाता है, कहलाता है:-
उत्तर घनकन्द।

प्रष्न कौनसा तेल अचार में परिरक्षक का काम करता है:-
उत्तर सरसों।

प्रष्न सिरके में एसीटिक एसीड़ की मात्रा:-
उत्तर 6.5%

प्रष्न रजनीगंधा, प्याज, लहसुन में प्रवर्धन कर सकते है:-
उत्तर शल्कन्द।

प्रष्न अचार में अचारीय सुगन्ध (पिकलिंग फ्लेवर) पैदा करने हेतु 2-3 दिन तक कितने तापक्रम पर रखा जाता है:-
उत्तर 25-30° C
प्रष्न मातृ पौधों की किसी शाखा या टहनी को बिना उसे पृथक किये जड़े उत्पन्न करना कहलाता हैः
उत्तर लेयरिंग।

प्रष्न पिकलिंग फ्लेवर किस परिवर्तन के कारण होती है:-
उत्तर शर्करा का लैक्टिक अम्ल में परिवर्तन ( जीवाणु द्वारा)

प्रष्न साधारण दाब में शाखा का कौनसा भाग हटाते है:-
उत्तर ऐचा या केम्बियम्।

प्रष्न साधारम दाब से पवर्धन करने हेतु कितनी शाखा का चयन करने:-
उत्तर 9-12 माह।

प्रष्न साधारण दाब में शाखा की कितनी चैड़ाई छाल उतार दी जाती है:-
उत्तर 2.5 सेमी.

प्रष्न तेल द्वारा परिरक्षित पदार्थ है
प्रष्न अचार।

प्रष्न स्ट्राबेरी, मोगरा, चमेली में प्रवर्धन कर सकते है:-
उत्तर सर्पिलाकार या मिश्रित दाब।

प्रष्न सामान्यतः अचार परिरक्षण हेतु कितना एसिटिक अम्ल काम में लते है:-
उत्तर 3%

प्रष्न पौधों को सुषुप्तावस्था में छेटी-छोटी टहनियां काटकर नया पौधा तैयार को कहते हैः-
उत्तर माउन्ट लेयरिंग।

प्रष्न मीठे अचार नींबू, आम, करौंदा में चीनी की मात्रा रखते है:-
उत्तर 65%

प्रष्न जैम में अम्लता: रखते है:-
उत्तर 0.5-06

प्रष्न ऐसे फल जिनमें परिपक्वता के प्श्चात श्वसन गति अचानक बढ़कर धाीमी हो जाती है, ऐसे फलों को परिपक्वता के पश्चात् सरलता से पकाया जा सकता है, कहलाते है:-
उत्तर क्लाइमेट्रिक अम्ल

प्रष्न जड़ विकास हेतु कौनसा वृद्धि नियामक कितनी मात्रा में काम में लते है:-
उत्तर I.B.A. या I.A.A. 100-500 P.P.M.

प्रष्न अमरूद में प्रवर्धन की सर्वोत्त्म विधि है:-
उत्तर ऐयर लेयरिंग।

प्रष्न जैम व जैली के पकने का तापक्रम है:-
उत्तर 105°C

प्रष्न मार्केटिंग या चाइनीज लेयरिंग के नाम से जानी जाती है:-
उत्तर हवाई लेयरिंग/हवाई दाब/गूंटी दाब।

प्रष्न जैली में अम्लता प्रतिशतता होती है:-
उत्तर 4%

प्रष्न फूल आने हेतु NAA की मात्रा लेते है:-
उत्तर 20 ppm

प्रष्न नागपुरी संतरा, खासी संतरा, कुर्ग संतरा, पंजाब देशी, दार्जलिंग संतरा, लाहोर लोकल इत्यादि किस्मे है।
उत्तर संतरा की

प्रष्न रतनजोत का B.N. है:-
उत्तर जेट्रोफा कर्कश

प्रष्न राजस्थान व पंजाब में व्यावसायिक महत्व की संतरा की किस्म (किन्नों) किसके संकरण से तैयार की गई है:-
उत्तर किंग × विलोलीक

प्रष्न फूल आने हेतु व फूल झड़ने से रोकने हेतु सान्द्रता रखते है:-
उत्तर B.N. की 20%

प्रष्न रतनजोत का औषधीय महत्व वाला भाग है:-
उत्तर बीज।

प्रष्न ग्वारपाठा का कुल है:-
उत्तर लिलिएसी।

प्रष्न माल्टा का उत्पति स्थल है:-
उत्तर चीन।

प्रष्न ऐसे फल जिन्हें परिपक्वता के बाद नहीं पकाया जाता है, अर्थात् फल तुड़ाई पकने के बाद की जाती है, कहलाते है:-
उत्तर नाॅनक्लाइमेट्रिक फल।

प्रष्न ग्वारपाठा का B.N. हैः-
उत्तर एलो बारबेडेन्स।

प्रष्न माल्टा व संतरा किस कुल से सम्बन्धित है:-
उत्तर रूटेसी।

प्रष्न ग्वारपाठे का उत्पति स्थल है:-
उत्तर दक्षिणी पश्चिमी अफ्रीका।

प्रष्न फलों को पकाने हेतु वृद्धि नियामक है:-
उत्तर इथाइलीन।

प्रष्न माल्टा का B.N.
उत्तर सिट्रास साइनेसिस।

प्रष्न फलों को पकाने हेतु एथाइलिन की कितनी सान्द्रता काम में लेते है:-
उत्तर 500 ppm

प्रष्न माल्टा के लिये उपयुक्त जलवायु है:-
उत्तर उष्ण व उपोष्ण।

प्रष्न राज. के किस जिलें में माल्टा की व्यवसायिक खेती होती है।
उत्तर श्रीगंगानगर।

प्रष्न ग्वारपाठे की पत्तियों के गुदे को विशेष विधियों से सुखाव पर जो पदार्थ होता है, उसे कहते है:-
उत्तर एलुआ या मुसब्बर।

प्रष्न मौसम्बी, ब्लडरेड माल्टा, ठेमलिन, जाफा, पाइनेपल, वैलेनिया, बो. संतुगुड़ी इत्यादि किस्मे है
उत्तर माल्टा

प्रष्न माल्टे में प्रवर्धन की व्यवसायिक विधि है:-
उत्तर कलिकायन (शील्ड या पेंच कलिकायन)।

प्रष्न कटे फलों की तुड़ाई के बाद स्टार्च का परिवर्तन हो जाता है:-
उत्तर शर्करा में।

प्रष्न प्रायः सभी प्रकार की धातु, उपधातु, रत्न और उपरत्न आदि की भस्में प्राप्त कर सकते है
उत्तर ग्वारपाठा।

प्रष्न माल्टा के कलिकायन द्वारा तैयार किये गये पौधों में फलन व अच्छी फसल मिलने का उपयुक्त समय क्रमशः है:-
उत्तर 3-5 व 7 वर्ष

प्रष्न माल्टा में पुष्पन व फलन व्र्श के किस माह में होता है:-
उत्तर फरवरी-मार्च व सात-आठ माह बाद (अक्टूबर से फरवरी)

प्रष्न कच्चे फलों की तुड़ाई के बाद प्रोटीनयुक्त नत्रजन व घुलनशील नाइट्रोजन युक्त पदार्थ की मात्रा में क्रमशः परिवर्तन होता है।
उत्तर अधिक व कम।

प्रष्न माल्टा के पूर्ण विकसित पौधों से फलों की उपज प्राप्त होती है:-
उत्तर 650-900 फल या 70-80 kg पौधा।

प्रष्न नींबू प्रजाति में गूटी हेतु कौनसा वृद्धि नियंत्रक कितनी मात्रा में काम में लाते है:-
उत्तर I.A.A.-N.A.A. 100 ppm

प्रष्न ग्वारपाठे के छोटे-पौधों का रोपण किस माह में किया जाता है:-
उत्तर जुलाई-अगस्त (वर्षा ऋतु)

प्रष्न डाइ-बेक अथवा उल्टा सूखा रोग किससे सम्बनित है:-
उत्तर नींबू।

प्रष्न ग्वारपाठे में कतार से कतार व पौधे स पौधे की दूरी रखते है:-
उत्तर 1 मी. व 40 cm

प्रष्न खरपतवारनाशी आॅक्सिजन है:-
उत्तर 2, 4-D

प्रष्न फलों का श्रेणीकरण करने हेतु लकड़ी के बने उपकरण काम में लाते है:-
उत्तर ग्रेड़र।

प्रष्न पौध-रोपण में कितने समय प्श्चात ग्वार पाठे की पत्तियों की कटाई की जा सकती है।
उत्तर 8-9 माह में (हर तीन माह बाद ताजी पत्तियाँ प्राप्त होती रहती है)

प्रष्न भारत में नींबू प्रजाति फलों का स्थान है:-
उत्तर तीसरा।

प्रष्न भण्डारण करने की ऐसी विधि जिसमें फलों को भकर उपलब्ध वायु को निर्वात पम्प की सहायता से निकाल दिया जाता है, कहलाती है:-
उत्तर हाइपोबेरिक विधि

प्रष्न ग्वारपाठे का यदि पूरा पौधा प8्राप्त करना है, तो पौध रोपण के कितने समय प्श्चात् पौधों को उखाड़ना चाहिये।
उत्तर एक वर्ष।

प्रष्न प्याज के अंकुरण को स्थगित करता है:-
उत्तर MH मेलिक हाइडेजाॅइड़।

प्रष्न ग्वारपाठे में एक स्थान पर कितने समय तक उत्पादन लिया जा सकता है:-
उत्तर 5 वर्ष तक।

प्रष्न केला का उत्पत्ति स्थान:-
उत्तर भारत

प्रष्न खरपतवार नष्ट करने हेतु 2, 4-D की कितनी मात्रा का छिड़काव किया जाता है:-
उत्तर 0.1%

प्रष्न ग्वारपाठे की उपज है:-
उत्तर 1000 – 12500 kg / है.

प्रष्न जैम में फल का भाग होना चाहिये:-
उत्तर 45%

प्रष्न ग्वार पाठे में पत्ती धब्बा रोग का नियंत्रण किया जा सकता है:-
उत्तर मैन्कोजेब।

प्रष्न चैड़ी पत्ती वाले खरपतवारों को नष्ट करने हेतु काम में लाते है:-
उत्तर 2, 4-D

प्रष्न प्राचीन ग्रन्थों में किस फल का कदली फल के रूप में वर्णन है:-
उत्तर केला

प्रष्न ग्वारपाठे में लगने वाला कीट है:-
उत्तर मिलीबग

प्रष्न भण्डारण की नियंत्रित विधि में:-
उत्तर O2 की मात्रा कम तथा CO2 की मात्रा बड़ाई जाती है।

प्रष्न भारत के किस राज्य में सर्वाधिक केला का उत्पादन होता है:-
उत्तर तमिलनाडू

प्रष्न ग्वारपाठे का नया पौधा रोपित करना चाहिये:-
उत्तर 25%

प्रष्न नींबू वर्गीय फलों कों प्रायः कितने: औसत नमी पर भण्डारण कर सकते है:-
उत्तर 80-85%

प्रष्न कौनसा फल वृक्ष केवल एक बार ही फल देता है:-
उत्तर केला।

प्रष्न पनामा रोग सम्बन्धित है:-
उत्तर केले से

प्रष्न केला रोपण के कितने समय बाद फल देने लगता है:-
उत्तर 9-12 माह बाद।

प्रष्न केले की उचित वृद्धि हेतु तापमान है:-
उत्तर 10-40°C

प्रष्न रतनजोत या जंगली अरण्ड की ऊँचाई होती हैः-
उत्तर 2-7 फीट तक।

प्रष्न सनाथ/सोनामुखी का ठण्छण् है।
उत्तर कसिया अगस्तीफोलिया।े

प्रष्न केले के पनामा विल्ट का रोग कारक है:-
उत्तर फ्यूजेरियम आॅक्सीस्पोरियम नामक कवक से

प्रष्न भारत में केले की तुड़ाई किस माह में करते है:-
उत्तर अप्रेल-सितम्बर।

प्रष्न किस औषधीय पादप में केंसर प्रतिरोध तत्व होता है:-
उत्तर रतनजोत।

error: Content is protected !!