0%
34

All The Best


Created on

Physics

GRAVITATION

GRAVITATION TEST - 01

1 / 20

If the distance between the centres of earth and moon is D and mass of earth is 81 times that of moon. At what distance from the centre of earth gravitational field will be zero :
यदि पृथ्वी व चन्द्रमा के केन्द्रों के मध्य दूरी D और पृथ्वी का द्रव्यमान, चन्द्रमा के द्रव्यमान का 81 गुना है, तो पृथ्वी के केन्द्र से कितनी दूरी पर गुरूत्वीय क्षेत्र का मान शून्य होगा :

2 / 20

When you move from equator to pole, the value of acceleration due to gravity (g) :-
जब हम भूमध्य रेखा से ध्रुवों की ओर गति करते है तो गुरुत्वीय त्वरण का मान (g) :

3 / 20

Three identical bodies (each mass M) are placed at vertices of an equilateral triangle of arm L, keeping the triangle as such by which angular speed the bodies should be rotated in their gravitational fields so that the triangle moves along circumference of circular orbit :
L भुजा के समबाहु त्रिभुज के शीर्षों पर प्रत्येक M द्रव्यमान के तीन समान कण रखे गए हैं। तीनों कणों की कोणीय चाल क्या होनी चाहिए कि वे उनके गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में इस प्रकार चक्कर लगाए कि त्रिभुज वृत्ताकार कक्षा की परिधि पर घूमेः

4 / 20

An earth's satellite is moving in a circular orbit with a uniform speed v. If the gravitational force of the earth suddenly disappears, the satellite will :-
पृथ्वी का एक उपग्रह पृथ्वी के चारों ओर वृत्ताकार पथ पर एक समान चाल v से परिक्रमा कर रहा है। यदि पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण बल अचानक खत्म हो जाता है तो उपग्रह -

5 / 20

One can easily “weigh the earth” by calculating the mass of earth using the formula (in usual notation)
पृथ्वी के भार के मापन के लिए पृथ्वी के द्रव्यमान की गणना निम्न में से कौनसे सूत्र द्वारा आसानी से ज्ञात किया जा सकता है :- (सामान्य संकेतो में)

6 / 20

If the earth stops rotating suddenly,the value of g at a place other than poles would :-
यदि पृथ्वी अचानक घूर्णन करना बंद कर दे तो ध्रुवों के अलावा, अन्य स्थान परg का मान :

7 / 20

Four particles of masses m, 2m, 3m and 4m are kept in sequence at the corners of a square of side a. The magnitude of gravitational force acting on a particle of mass m placed at the centre of the square will be :
a भुजा वाले वर्ग के चारों शीर्षों पर चार द्रव्यमान m, 2m, 3m और 4m को रखा गया है। वर्ग के केन्द्र पर स्थित द्रव्यमान m पर लगने वाले गुरूत्वीय बल का परिमाण होगा।

8 / 20

Following curve shows the variation of intensity of gravitational field ( \underset{I}{\rightarrow}) with distance from the centre of solid sphere(r) :
गुरूत्वाकर्षण क्षेत्र की तीव्रता (\underset{I}{\rightarrow}) की ठोस गोले के केन्द्र से दूरी (r) पर निर्भरता निम्न वक्र द्वारा प्रदर्शित होती है :

9 / 20

Assume that a tunnel is dug through earth from North pole to south pole and that the earth is a non-rotating, uniform sphere of density r. The gravitational force on a particle of mass m dropped into the tunnel when it reaches a distance r from the centre of earth is
मान लीजिये पृथ्वी में से उत्तरी ध्रुव से लेकर दक्षिणी ध्रुव तक एक सुरंग खोदी जाती है। पृथ्वी p घनत्व का एकसमान गोला है जो कि घूर्णन नहीं करता है। m द्रव्यमान के एक कण को सुरंग में गिराया जाता है तथा जब यह पृथ्वी के केन्द्र से दूरी r पर पहुँचता है, तो कण पर लगने वाला गुरुत्वाकषर्ण बल होगा:

10 / 20

When the radius of earth is reduced by 1% without changing the mass, then the acceleration due to gravity will
यदि द्रव्यमान को नियत रखते ह पृथ्वी की त्रिज्या 1% से घटा दी जाए, तो गुरूत्वीय त्वरण

11 / 20

At some planet 'g' is 1.96 m/sec2. If it is safe to jump from a height of 2m on earth, then what should be corresponding safe height for jumping on that planet :-
किसी ग्रह पर गुरूत्वीय त्वरण 1.96 m/sec2 है। पर 2 m की ऊँचाई से कूदना सुरक्षित है, तो ग्रह पर संगत सुरक्षित ऊँचाई होगी :

12 / 20

The tidal waves in the seas are primarily due to :
समुद्र में उठने वाली ज्वारीय धाराएँ मुख्यत: किसके कारण होती है।

13 / 20

The value of 'g' reduces to half of its value at surface of earth at a height 'h', then :-
पृथ्वी (त्रिज्या =R) की सतह से h ऊपर जाने पर (g) का मान उसके पृथ्वी पर मान का आधा होगा, यदि :

14 / 20

Mars has a diameter of approximately 0.5 of that of earth, and mass of 0.1 of that of earth. The surface gravitational field strength on mars as compared to that on earth is a factor of –
मंगल ग्रह का व्यास पृथ्वी के व्यास का लगभग 0.5 गुना तथा उसका द्रव्यमान 0.1 गुना है। तो मंगल ग्रह का पृथ्वी की तुलना में पृष्ठीय गुरूत्वीय क्षेत्र सामर्थ्य कितने गुना होगा

15 / 20

Diameter and mass of a planet is double that earth. Then time period of a pendulum at surface of planet is how much times of time period at earth surface :-
किसी ग्रह का व्यास एवं द्रव्यमान पृथ्वी के व्यास एवं द्रव्यमान का दुगना है, तो ग्रह की सतह पर लोलक का आवर्तकाल पृथ्वी पर आवर्तकाल :

16 / 20

Acceleration due to gravity at the centre of the earth is :-
पृथ्वी के केंद्र पर गुरूत्वीय त्वरण का मान होगा :

17 / 20

The value of universal gravitational constant G depends upon :
सार्वत्रिक गुरुत्वाकर्षण नियतांक G का मान निर्भर करता है:

18 / 20

The value of 'g' on earth surface depends :-
पृथ्वी के धरातल पर गुरूत्वीय त्वरण का मान निर्भर करता है:

19 / 20

More amount of sugar is obtained in 1kg weight:
1 kg भार में अधिक शक्कर प्राप्त होगी :

20 / 20

During the journey of space ship from earth to moon and back, the maximum fuel is consumed :-
अंतरिक्ष यान द्वारा पृथ्वी से चन्द्रमा और फिर चन्द्रमा से पृथ्वी की यात्रा के दौरान अधिकतम ईंधन की खपत होगी :

Your score is

The average score is 48%

0%




Welcome to the online physics test series for the NEET & JEE entrance exam. On this page you can find chapter wise physics mock tests for the NEET & JEE  exam. Practicing physics questions is very important as it helps in clear the concepts over a period of time. With these NEET & JEE physics questions, you can get a boost in your confidence when it comes to problem-solving in physics.

  • The test is of 20-minutes duration and it contains 20 Questions.
  • Practicing such tests would give you added confidence while attempting your exam.
  • Why wait to take the test and get an instant evaluation.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content